DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

14 लाख ले उड़ी वेटलिफ्टिंग कोच!

रांची। 2007 और 2009 में 34वें राष्ट्रीय खेल के लिए सरकार द्वारा दी गई राशि से वेटलिफ्टिंग (भारोत्तोलन) का तैयारी कैंप लगा। एनआइएस कोच राजेंद्र प्रसाद ने दोनों बार खिलाड़ियों को कोचिंग दी। फरवरी में जब राष्ट्रीय खेल के लिए टीम घोषित की गई तो आयोजन से तीन दिन पहले 15 सदस्यीय टीम में 14 खिलाड़ी बाहर से बुला लिए गए।

राजेंद्र प्रसाद को अचानक महिला टीम का मैनेजर बना दिया गया और शिखा शर्मा (राय) को महिला और पुरुष टीमों का कोच। राजेंद्र प्रसाद ने इसका विरोध किया पर उनकी नहीं चली। 14 इंपोर्टेड खिलाड़ियों से सजी झारखंड टीम ने सात गोल्ड, एक सिल्वर और एक कांस्य जीता।

झारखंड से कई सालों से खेलनेवाली प्रतिमा कुमारी ने भी एक गोल्ड जीता। 10 माह बाद जब कैश अवार्ड देने की घड़ी आई तो शिखा शर्मा का नाम फिर वेटलिफ्टिंग संघ के द्वारा अग्रसारित कर दिया गया। 32 प्रशिक्षकों में से सबसे बड़ा 14 लाख रुपए का चेक शिखा के नाम ही बना। इस बार फिर विरोध किया गया पर फिर इसपर कोई कार्रवाई नहीं हुई।

दिसंबर के पहले हफ्ते में जब चेक आदि बनाने की कार्रवाई चल रही थी तो राजेंद्र भारतीय टीम के साथ यूथ एशियन चैंपियनशिप के लिए बैंकाक गए हुए थे। आनन-फानन में चेक शिखा ले उड़ीं। अब राजेंद्र प्रसाद झारखंड वेटलिफ्टिंग संघ को कोस रहे हैं। पता चला है कि शिखा शर्मा झारखंड वेटलिफ्टिंग संघ के सचिव टीडी राय की बहन हैं और वह राजस्थान में रहती हैं।

कैश अवार्ड झटकने के लिए जानबूझकर यह सब कुछ सोची समझी चाल के तहत किया गया था। हैरतंगेज बात यह है कि है प्रतिमा कुमारी जब राष्ट्रीय खेल में वजन उठा रही थीं तो जज पैनल में शिखा शर्मा थीं। ऐसा किस प्रकार हुआ, यह भी अनुसंधान करनेवाली बात है।

शिखा जज थीं तो क्या उन्होंने उस मद में भी भुगतान लिया ? इसका जवाब आयोजन समिति और तकनीकी टीम को देना चाहिए। सम्मान में गड़बड़ी’ बहन को गलत ढंग से राशि दिलाई संघ के सचिव ने’ झारखंड के कोच और खिलाड़ी ने फैसले पर उठाए सवालमैं वजन उठा रही थीं तो शिखा शर्मा जज थीं। वह मेरी कोच कभी नहीं रहीं।

मुझे राजेंद्र सर कोचिंग देते आए हैं। उनके साथ गलत हुआ। प्रतिमा कुमारी, गोल्ड विनर राष्ट्रीय खेल1991 से मैं झारखंड टीम का कोच हूं। मुङो मैनेजर बनाने पर मैंने विरोध किया था। दोनों टीमों की कोच एक को ही कैसे बना दिया गया। अपनी बहन को पैसा दिलाने के लिए ही यह मनमानी की गई है।राजेंद्र प्रसाद, कोच झारखंड

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:14 लाख ले उड़ी वेटलिफ्टिंग कोच!