DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खेल का अधिकार कानून बनाने पर विचार: हुड्डा

हरियाणा सरकार खिलाडि़यों में बचपन से ही खेल की भावना को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से खेल का अधिकार कानून बनाने पर विचार कर रही है।

मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने शनिवार को पंचकूला में स्पैट 2012 के दूसरे चरण की प्रक्रिया का जायजा लेते समय प्रतिभागियों का उत्साहवर्धन कर रहे थे। उन्होंने कहा कि जल्द ही हरियाणा प्रीमियर लीग का आयोजन किया जाएगा। सरकार ने स्पैट 2012 के तहत पांच हजार खिलाडियों के लिए प्रस्तावित छात्रवृत्ति के लिए दस करोड़ रुपए का प्रावधान किया है।
 
उन्होंनें कहा कि छोटी आयु में खेल प्रतिभाओं को तराशने के लिए आरंभ की गई स्पैट योजना के उत्साहवर्धक परिणाम मिल रहे हैं। अभिभावक भी अपने बच्चों को इस योजना का हिस्सा बनने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। इस योजना का तीसरा एवं अंतिम चरण 20 से 25 जनवरी तक आयोजित किया जाएगा। योजना के तहत पांच हजार प्रतिभागियों का चयन किया जाएगा।
 
उन्होंने कहा कि युवाओं के उज्जवल भविष्य के लिए बहुआयामी कार्यक्रम आरंभ किए गए हैं। उन्हें बेहतर शिक्षा सुविधाएं तथा खेलों में रूचि बढाने के लिए भी नएनए कार्यक्रम शुरू किए गए हैं। ग्रामीण स्तर पर 195 राजीव गांधी खेल स्टेडियमों का निर्माण किया जा रहा है और अब तक 138 स्टेडियमों का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है इसके अलावा अलग अलग खेलों की बारह अकादमियां स्थापित की गई हैं।
 
हुड्डा ने कहा कि सरकार ने खिलाडि़यों को प्रेत्साहित करने तथा उनका भविष्य सुरक्षित करने के लिए पदक लाओ, पद पाओ का नया नारा दिया है। पिछले छह वर्षों के दौरान अब तक 398 खिलाडि़यों को उनकी खेल उपलब्धियों के आधार पर सरकारी नौकरियां दी जा चुकी हैं।
 
उन्होंने कहा कि समाज के सभी वर्गो को खेलों में समान अवसर दिलाने के लिए अनुसूचित जाति के बच्चों के लिए फेयरप्ले स्कॉलरशिप नामक योजना आरंभ की गई है। इस योजना के तहत इस वर्ग के बच्चों को स्कॉलरशिप दी जाएगी। इसके साथ साथ जिला खेल परिषदों को सक्रिय बनाया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:खेल का अधिकार कानून बनाने पर विचार: हुड्डा