DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

और भव्य होगा काशी विश्वनाथ मंदिर

देश के बारह ज्योर्तिलिंगो में से एक उत्तर प्रदेश में वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर को अब और भव्यता मिलेगी तथा सभी उप शीर्ष अब स्वर्णमंडित होंगे। मंदिर के सभी दरवाजे चांदी से मढ़े जाएंगे। मुख्य शिखर की डिजाइन में भी परिवर्तन होगा तथा उत्तर भारत के मंदिर के आधार पर इसे नया कलेवर दिया जाएगा।

मंदिर कार्यपालक समिति की बैठक में विश्व प्रसिद्ध मंदिर को और भव्यता देने का निर्णय लिया गया। मंदिर में चढ़ावे में मिले मुम्बई के भारतीय स्टेट बैंक के लाकर में रखे तकरीबन पांच से छह क्विंटल स्वर्ण एवं पांच से छह क्विंटल चांदी को गलाकर उप शीर्ष तथा दरवाजों का कलेवर बदला जाएगा। इस पूरी प्रक्रिया को पारदर्शी बनाए रखने के लिए एक खुली कमेटी का गठन होगा।

इसके लिए श्रृंगेरी मठ से जुड़े गौरी शंकर की मदद ली जाएगी। भक्तों के लिए प्रसाद की व्यवस्था त्रिदेव मंदिर का संचालन करने वाली संस्था राणी सती ट्रस्ट की ओर से की जाएगी। प्रसाद के रुप में रुद्राक्ष का एक पत्र, बेलपत्र भस्म एवं भगवान शिव का एक फोटो दिया जाएगा। मंदिर के पत्थरों में बने एनामेल पेंट को छुड़ाने के लिए काशी हिन्दू विश्व विद्यालय के विशेषज्ञों की मदद ली जाएगी। मंदिर की वेबसाइट को जल्द ही अपडेट किया जाएगा।

मुख्य कार्यपालक अधिकारी एस.एन. त्रिपाठी के अनुसार मंदिर की सुरक्षा के लिए जल्द ही शासन की ओर से 150 सुरक्षाकर्मी भेजे जाएंगे। भक्तों की सुविधा के लिहाज से रेडजोन के 11 जर्जर भवनों को शीघ्र खरीदने की तैयारी हो रही है। मंदिर की आय में गत वर्ष की अपेक्षा इस वर्ष एक करोड 21 लाख रुपए की वृद्धि हुई है।

अयोध्या में छह दिसम्बर 1992 को विवादित ढांचा गिराए जाने के बाद मंदिर की सुरक्षा व्यवस्था काफी कड़ी कर दी गई है। गहन जांच के बाद ही श्रद्धालुओं को प्रवेश दिया जाता है। मंदिर में दर्शन करने देश विदेश विशेषकर दक्षिण भारत से लाखों लोग हर माह वाराणसी आते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:और भव्य होगा काशी विश्वनाथ मंदिर