DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मैं खुद रंगभेद का शिकार हुआ हूं: पुनीत

सबसे पहले इस फिल्म के बारे में कुछ बताइये?
यह फिल्म अमेरिका में हुए 9/11 हमले के बाद सिखों के साथ उनकी वेशभूषा के आधार पर जो व्यवहार किया गया, उसी पर आधारित है। उस हमले के बाद सिखों के प्रति जिस तरह लोगों का रवैया बदला है, उसका चित्रण फिल्म में किया गया है।
 
पर उस घटना को तो दस साल हो चुके हैं?
तो क्या हुआ? हमारी फिल्म में सिखों के साथ हो रहे व्यवहार के साथ-साथ रंगभेद का मुद्दा भी उठाया गया है। मेरी फिल्म उन सिखों के बारे में बात करती है, जो अमेरिका में पिछले सौ सालों से भी अधिक समय से यानी कई पीढ़ियों से रहते आ रहे हैं, लेकिन अब महज सिखों की पगड़ी के आधार पर अमेरिका व इंग्लैंडवासी सिखों को अरबी व अफगानी समझते हुए उनके साथ रंगभेदी अत्याचार कर रहे हैं।

आप अपनी फिल्म के माध्यम से क्या संदेश देना चाहते हैं?
मैं लोगों को बताना चाहता हूं कि सिख की पगड़ी सिर्फ सिख की ही नहीं, बल्कि हर भारतीय के आत्म-स्वाभिमान का प्रतीक है।

क्या आपकी फिल्म किसी घटना से प्रेरित है?
मैं स्वयं इस तरह की घटना का शिकार हुआ हूं। मैं लंदन गया हुआ था। वहां मैं अपनी मां के पक्ष के लोगों के साथ एक होटल में बैठा हुआ था। तभी वहां पर कुछ अंग्रेज आए और हमारे रिश्तेदारों से कहा कि ‘तुम अरबी हो, यहां से निकल जाओ़..’ तब मैंने उन लोगों को अपनी तरफ से समझाने की कोशिश की कि सिख तथा अरबी व अफगानिस्तानी में क्या फर्क होता है? लोगों को भी इस फर्क को समझना चाहिए।

आपने इस फिल्म को अमेरिका में भी फिल्माया है। तो क्या अनुभव रहे?
कमाल के अनुभव रहे। हमने अपनी इस फिल्म का 95 फीसदी हिस्सा अमेरिकी सरकार से इजाजत लेकर लॉस एंजेल्स, न्यूयॉर्क, सेन फ्रांसिस्को शहरों में फिल्माया है। अमेरिका में शूटिंग के दौरान भी हमें वहां के लोगों का गुस्सा देखने को मिला। वहां काफी तनाव था। 

इस फिल्म के लिए शोध कार्य करते समय आपने क्या पाया?
आपको जानकर हैरानी होगी कि अपने ऊपर हो रहे हमलों के कारण तमाम सिखों ने अपनी दाढ़ी बनवा डाली। बाल कटवाकर छोटे करवा लिए। अब वे अपनी पगड़ी भी नहीं बांधते और सिर्फ अंग्रेजी भाषा में बात करते हैं। मैं तो अमेरिका, इंग्लैंड, फ्रांस में सिखों के पगड़ी बांधे जाने के खिलाफ जो मुहिम चल रही है, उसके भी खिलाफ हूं, क्योंकि यह (पगड़ी) हमारे आत्मसम्मान का मामला है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मैं खुद रंगभेद का शिकार हुआ हूं: पुनीत