DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दोहरी सुरक्षा में सड़क सर्वे शुरू

रांची, आशुतोष सिंह। सारंडा के विकास में सबसे बड़ी बाधा सड़कों का अभाव है। पहले यहां सड़क बनाने के लिए कोई तैयार भी नहीं होता था। अब राज्य सरकार और केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री जयराम रमेश की दिलचस्पी रंग लाने लगी है। 41 करोड़ की लागत से सारंडा के अंदर 13 सड़कें बननी हैं। इससे आवागमन के साथ आधारभूत संरचनाएं भी बढ़ेंगी।

प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत कुल 13 सड़कें बनवाने की प्रक्रिया भारी सुरक्षा के बीच शुरू हुई है। सड़कों की कुल लंबाई 137 किलोमीटर होगी। इसमें पांच बड़े पुल भी शामिल हैं। इन सड़कों की डीपीआर जल्द बनवाने का केंद्र का भी दबाव है। सुरक्षा के अभाव में पहले सड़क और पुल बनाने को कोई तैयार नहीं होता था।

अब सीआरपीएफ की सुरक्षा में सार्वजनिक उपक्रम जिन्फ्रा ने निर्माण के सर्वे का काम लिया है। जिन्फ्रा इसमें सी-टेस्टिंग कंपनी सहयोग कर रही है। 13 में से 9 सड़कों के निर्माण का सर्वे हो चुका है। सीआरपीएफ ने विभाग से सर्वे कार्य के लिए एडवांस टूर प्रोगाम भी मांगा है।

सर्वे में शामिल एक कर्मी ने बताया कि सर्वे से एक दिन पहले लगभग 500 सीआरपी के जवान साइट को घेर लेते हैं। दूसरे दिन और 500 जवान सर्वेयरों को बिना स्थान बताये ले जाते हैं। रात में जंगल में ही कैंप करना पड़ता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दोहरी सुरक्षा में सड़क सर्वे शुरू