DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मझोला मिल का चीनी स्टॉक सील

 बरेली। वरिष्ठ संवाददाता। सहकारी चीनी मिल मझोला का चीनी स्टॉक सील कर दिया गया है। यह कार्रवाई पीएफ विभाग ने गुरुवार को कर्मचारियों के फंड के एक करोड़ के बकाया जमा न करने पर की है। इसमें 48 लाख रुपए तो पीएफ विभाग की ओर ठोके गए जुर्माने यानी डैमेजेज के हैं। पीएफ विभाग अब चीनी मिल से बकाया की वसूली की तैयारी में है। अगर मिल प्रबंधन ने बकाया जमा नहीं किया तो चीनी की नीलामी कर बैंक एकाउंट से रकम जब्त की जाएगी।पीलीभीत की सहकारी चीनी मिल मझोला पर पीएफ विभाग में कर्मचारियों के फंड जमा न करने पर तीन बार असेसमेंट की कार्रवाई हुई। जिसमें पीएफ विभाग ने मई 2002 से जनवरी 2008 तक 71 लाख रुपए का बकाया निकाला।

इसके बाद में मिल प्रबंधन ने लगभग 17 लाख रुपया जमा कर दिया पर उसके बाद कोई रकम जमा नहीं की। जिस पर पीएफ विभाग ने कार्रवाई का नोटिस जारी किया तो प्रबंधन ने 13 लाख रुपए और जमा कर दिया। इस पीरिएड के मिल प्रबंधन पर 41.34 लाख रुपए अब भी बकाया हैं। जबकि फरवरी 2008 से नवंबर 2010 तक के बकाए का असेसमेंट में पीएफ विभाग ने 57.39 लाख रुपए निकाले। इसके अलावा समय से बकाया जमा न करने के कारण पीएफ विभाग ने डैमेजेज के रूप में 48 लाख रुपए का जुर्माना डाला।

हालांकि, इस डैमेजेज के खिलाफ मिल प्रबंधन हाईकोर्ट से स्टे ले आया है, पर पीएफ विभाग इस स्टे को खत्म कराने में लग गया है। पीएफ के क्षेत्रीय कमिश्नर आलोक यादव के अनुसार, प्रवर्तन अधिकारी मुकेश गुप्ता की टीम ने करीब एक करोड़ का बकाया होने पर चीनी स्टॉक सील कर दिया है। मिल का बैंक एकाउंट पहले ही सीज हो चुके हैं। अब इससे बकाया वसूली की जाएगी।जेके और रोजा शुगर मिल भी निशाने परपीएफ विभाग के निशाने पर जेके शुगर मिल और शाहजहांपुर की रोजा शुगर मिल भी आ गई हैं। यहां पर 50 फीसदी से अधिक कर्मचारियों का फंड जमा न करने का मामला सामने आया है। इस पर विभाग ने धारा 7ए के तहत कार्रवाई शुरू कर दी है। क्षेत्रीय आयुक्त ने बताया कि इन मिलों पर भी जल्द कार्रवाई की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मझोला मिल का चीनी स्टॉक सील