DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

...थोड़ी-सी पूंजी भी है, तो देर किस बात की !

आप अपना काम शुरू करना चाहते हैं, पर रुके हैं, क्योंकि आपके पास पर्याप्त पूंजी नहीं है? अपनी किताब ‘स्कूल फॉर स्टार्टअप’ में जीम बीच नए व्यवसाय को शुरु करने के सही तरीकों की सलाह देते हैं। बूट स्ट्रैपिंग वर्सेज रेजिंग कैपिटल अध्याय में लेखक पर्याप्त पूंजी की व्यवस्था होने का इंतजार करने की जगह कम पूंजी से व्यवसाय शुरू करने की सलाह देते हैं।

प्रश्न है कि बूटस्ट्रैपिंग क्या है? बूट स्ट्रैपिंग का अर्थ है अपने प्रयासों से अपनी स्थिति में सुधार करना। व्यवसाय में भी इसका मतलब बाहरी मदद और पूंजी की सहायता के बिना अपना काम शुरू करके सफलता हासिल करने से लगाया जाता है। लेखक कहते हैं, बाहरी आर्थिक सहायता के बिना बूटस्ट्रैपिंग व्यवसाय शुरू करने का अच्छा तरीका है। बूटस्ट्रैपिंग में आप लाभ और नकद प्रवाह पर फोकस करना सीखते हैं। साथ ही आपका ध्यान मात्र पूंजी के संसाधन जुटाने पर न होकर प्रारंभ से ही सामान की बिक्री पर होता है। कुल मिला कर यदि आप अपने विचार को व्यवसाय का रूप देने के प्रति प्रतिबद्ध हैं और मानते हैं कि स्टार्टअप की शुरुआत में बड़ी पूंजी का होना जरूरी नहीं है, तो आपको सफल व्यवसायी बनने से कोई नहीं रोक सकता।

बिक्री शुरू करें
जोखिम कम करने का अच्छा तरीका है कि आप बिक्री तुरंत शुरू कर दें। इससे शुरुआत से ही आय होने लगेगी। लागत से कम पर अपनी सेवाएं/प्रोडक्ट उपलब्ध न कराएं, पर मुख्य फोकस लाभ पर भी नहीं होना चाहिए। बाजार में बने रहने के लिए आपका लक्ष्य नकदी के प्रवाह पर होना चाहिए।
उच्च गुणवत्ता: कीमतों के मामले में प्रतियोगिता करना पसंद नहीं किया जाता। कारण कि या तो आप वस्तु को सस्ता बेचेंगे या फिर अपना मुनाफा कम करेंगे। पर बूट स्ट्रैपिंग में वस्तु या सेवा की अच्छी गुणवत्ता और बिक्री के बाद अच्छी सेवाएं मुहैया कराने के लिए प्रतियोगिता करनी चाहिए। अपनी कंपनी की सेवाओं को सर्वश्रेष्ठ बना कर पेश करें।

लंबी-चौड़ी टीम न रखें
बिजनेस की शुरुआत में किसी उद्यमी को सभी तरह की भूमिकाएं निभाने के लिए तैयार रहना चाहिए। मसलन सेल्स, मार्केटिंग, फाइनेंस और यहां तक कि सामान की पैकिंग से लेकर ऑफिस की साफ-सफाई भी करने के लिए तैयार रहना पड़ता है। उद्यमी को अपने कंफर्ट जोन से निकलने के लिए तैयार रहना चाहिए। काम की शुरुआत जगह पर खर्च न करके अपने घर के किसी कमरे से कर सकते हैं।

कंट्रोल जरूरी है
धीमी और स्थायी रफ्तार से आगे बढ़ें। धीमे-धीमे आगे बढ़ना भले ही प्रभावी न लगे, पर आप प्रारंभ में खुद को ऋणों से मुक्त रख पाएंगे। आर्थिक उतार-चढ़ाव का भी ज्यादा असर नहीं पड़ेगा।

मोलभाव करें
कीमतों में मोल-भाव की गुंजाइश रहती है। जिन लोगों से आप माल खरीद रहे हैं, उन्हें बताएं कि आपकी कंपनी नई है और फिलहाल आप लागत निकालने पर जोर दे रहे हैं। ऐसे में आप स्पेशल छूट पाने में कामयाब हो सकते हैं।

माउथ पब्लिसिटी का लें सहारा
विज्ञापन पर खर्च करना मुश्किल होता है। एक तरीका ब्लॉगिंग और ट्विटर और फेसबुक जैसी सोशल नेटवर्किंग साइट्स की मदद लेना है।
मार्ट ऑफ इमेजिस

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:...थोड़ी-सी पूंजी भी है, तो देर किस बात की !