DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किसान मजदूरों के सडकों पर कब्जे से यातायात अस्त-व्यस्त

किसान मजदूर संगठनों के धरना प्रदर्शन और उन्हें चंडीगढ़ जाने से रोके जाने के विरोध में चल रहे प्रदर्शनों का असर पंजाब के विभिन्न हिस्सों में यातायात पर पड़ा है। इस प्रदर्शन के कारण गुरुवार को जालंधर अमृतसर राजमार्ग जाम रहा।

जालंधर अमृतसर राजमार्ग पर व्यास नदी पर बने पुल पर किसान मजदूरों का कब्जा बरकरार है, जिससे यातायात में लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। दूसरी ओर, संगठन के नेता तरसेम पीटर ने गुरुवार शाम कहा कि इसके लिए केवल और केवल राज्य सरकार ही जिम्मेदार है।

उन्होंने हमें चंडीगढ़ से जाने से रोका। हमारी मांग भी नहीं मान रहे हैं। हम अगले बीस दिन तक के इंतजाम के साथ सडकों पर बैठे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार को चाहिए वह फिल्मी कलाकारों के ठुमकों पर करोड़ों रुपये खर्च करने की बजाए किसान मजदूरों की सुध ले।

पीटर ने कहा कि सरकार ने हमारे साथ धोखा किया है। वादा करके वह मुकर गयी है। इसका परिणाम उन्हें चुनावों के बाद दिखेगा। किसान मजदूर नेता ने कहा कि मोगा से गुरुवार को चालीस लोगों की गिरफ्तारी हुई है, जिसमें हमारे दो राज्यस्तरीय नेता भी शामिल हैं। पुलिस ने उनको लाठी के बल पर गिरफ्तार किया है।

हालांकि, हमने अमृतसर को चारों तरफ से बंद कर दिया है। मोगा और बठिंडा भी जाने में लोगों को दिक्कत आ रही है। यह जाम तब तक चलता रहेगा जब तक कि हमारी मांग सरकार नहीं मानती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:किसान मजदूरों के सडकों पर कब्जे से यातायात अस्त-व्यस्त