DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

व्याघ्र परियोजना का पर्यटन स्थल के रूप में होगा विकास

पटना। हिन्दुस्तान ब्यूरो। पश्चिम चंपारण के वाल्मीकिनगर व्याघ्र परियोजना वन क्षेत्र को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा। वाल्मीकिनगर में इको टूरिज्म के विकास के लिए केन्द्रीय पर्यटन मंत्रालय ने 3 करोड़ 60 हजार रुपए की योजना की स्वीकृति दी है। पर्यटन मंत्री सुनील कुमार पिन्टू ने बुधवार को विधान परिषद में यह घोषणा की। इसके पहले राजेश राम ने तारांकित प्रश्न के माध्यम से सरकार से यह जानना चाहा था कि क्या वाल्मीकिनगर व्याघ्र परियोजना वन क्षेत्र को वह पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करना चाहती है? इसके जवाब में मंत्री ने कहा कि केन्द्र से स्वीकृत योजना का कार्यान्वयन भवन निर्माण विभाग के माध्यम से कराया जा रहा है। इसके तहत अर्बन डिजाइन एवं प्लानिंग, भवन निर्माण, विद्युतीकरण, सेनेटरी कार्य, वैरिकेटिंग वॉल, पुहंच पथ, लैंड स्केपिंग और सायनेज का काम कराया जाएगा। इसके अतिरिक्त वाल्मीकिनगर स्थित डोरमेट्री के जीर्णोद्धार के लिए 23.51 लाख की एक अलग परियोजना तैयार करायी गयी है जिसकी स्वीकृति प्रक्रियाधीन है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:व्याघ्र परियोजना का पर्यटन स्थल के रूप में होगा विकास