DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कर्मचारी चयन परीक्षा की प्रक्रिया बदले

पटना। हिन्दुस्तान ब्यूरो। अगले वर्ष अप्रैल में विभिन्न पदों के लिए मैट्रिक और इंटर स्तर की आयोजित होने वाली परीक्षा के संचालन को लेकर राज्य कर्मचारी चयन आयोग ने सामान्य प्रशासन विभाग को कुछ सुझाव भेजे हैं। आयोग ने अपने पत्र में कहा है कि बिना ठोस प्रावधान के परीक्षा आयोजित कराने पर कठिनाई आ सकती है। आयोग ने सरकार से अतिरिक्त मानव संसाधन के अलावा परीक्षा की प्रक्रिया में कई बदलाव करने का भी सुझाव दिया है।

याद रहे कि राज्य सरकार ने कर्मचारी चयन नियमावली 2003 में आवश्यक संसोधन सरकार ने कर दिए हैं। आयोग के सचिव ने अपने पत्र में कहा है कि दोनों स्तर की परीक्षाओं के लिए एक परीक्षा ही आयोजित करायी जाए। जबकि वर्तमान नियमानुसार, जिस परीक्षा में अभ्यर्थियों की संख्या 40 हजार से ज्यादा होगी, उसमें दो परीक्षाएं पीटी और मेंस कराना होगा।

आयोग ने इंटर स्तर की परीक्षा में 8 लाख और मैट्रिक स्तर की परीक्षा में 20 लाख अभ्यर्थियों के शामिल होने का अनुमान लगाया है। विभिन्न पदों के लिए इंटर स्तरीय परीक्षा के करीब सभी अभ्यर्थी मैट्रिक स्तरीय परीक्षा में भाग ले सकते हैं। इतनी ज्यादा संख्या होने पर एक ही दिन परीक्षा कराना संभव नहीं होगा। जिला और अनुमंडल मुख्यालयों में साढ़े तीन से चार लाख अभ्यर्थियों की क्षमता वाले परीक्षा केन्द्र बनाने के लिए अच्छे स्कूल या कॉलेज नहीं हैं। ऐसे में स्वच्छ परीक्षा आयोजित कराने में काफी मुश्किल होगी। परीक्षा में छात्रों को पुस्तक ले जाने की अनुमति नहीं मिलनी चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कर्मचारी चयन परीक्षा की प्रक्रिया बदले