DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कलक्ट्रेट की सुरक्षा व्यवस्था में नजर रखेगी तीसरी आंख

गाजियाबाद। शरद पांडेय। कलक्ट्रेट की सुरक्षा व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त करने और रोजाना होने वाले धरना-प्रदर्शनों पर नजर रखने के लिए परिसर में सीसीटीवी कैमरे लगाने की तैयारी शुरू हो गई है। तीसरी आंख की मदद से परिसर के अंदर होने वाली छोटी-बड़ी गतिविधियां और प्रदर्शन के दौरान दिए गए भाषणों को कैद किया जा सकेगा। उम्मीद है कि नए साल में कलेक्ट्रेट की सुरक्षा व्यवस्था तीसरी आंख की जद में होगी।

हालांकि ट्रैफिक पुलिस शहर में 41 स्थानों पर कैमरा लगा चुकी है। कलक्ट्रेट में रोजाना तमाम धरने-प्रदर्शन चलते रहते हैं। इस प्रदर्शनों पर नजर रखने के लिए प्रशासन यहां सीसीटीवी लगाने की कवायद तेज कर दी है। दरअसल पिछले दिनों कलक्ट्रेट में मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा समीक्षा बैठक के लिए आए थे।

जैसे ही प्रमुख सचिव परिसर पहुंचे, वैसे तमाम प्रदर्शनकारी जोर-जोर से शोर मचाने लगे। इस घटना के बाद कलक्ट्रेट परिसर में सीसीटीवी कैमरा लगाने की जरूरत महसूस की गई। जिसकी मदद से धरना-प्रदर्शनों पर प्रशासन के अधिकारी अंदर बैठे-बैठे नजर रख सकेंगे।

सभी एंट्री प्वाइंट पर होंगे सीसीटीवी

शुरुआत में कलक्ट्रेट के मुख्य गेट के आसपास कैमरे लगाने की तैयारी है। कितने कैमरे लगाए जाएंगे, इस पर चर्चा की जा रही है। इसके बाद अन्य गेटों पर भी कैमरा लगाए जाएंगे। जिससे परिसर के अंदर की सभी छोटी-बड़ी गतिविधियों को कैमरे में कैद किया जा सके। कंट्रोल रूम बनाया जाएगाइस योजना पर अगले साल काम शुरू होगा। अभी जिला अधिकारी अन्य अधिकारियों सुझाव ले रहे हैं कि किन किन स्थानों पर कैमरे लगाए जाएं।

कलक्ट्रेट परिसर में सीसीटीवी पर को मोनिटर करने के लिए एक कंट्रोल रूम बनाया जाएगा। यह कंट्रोल रूम सिटी मजिस्ट्रेट या एडीएम सिटी के कमरे स्थापित होगा। इससे पहले शहर में कहां लगे हैं कैमरे मेरठ तिराहा, मोहननगर, वसुंधरा, गांधीनगर, नवयुग मार्केट, अंबेडकर रोड, पुराना बस अड्डा, महाराजपुर बार्डर, ज्ञानी बार्डर, यूपी गेट, घंटाघर, चौधरी मोड़, कैला भट्टा, हापुड़ तिराहा समेत 41 स्थानों पर कैमरे चालू होने हैं। इनका कंट्रोल रूम पुलिस लाइन में बनाया गया है।

क्या होंगे फायदे -सभी धरने-प्रदर्शन कैमरे की जद में होंगे। प्रदर्शन के दौरान लोगों के भाषण की रिकार्डिग हो सकेगी। - कलक्ट्रेट परिसर की सुरक्षा व्यवस्था चुस्त होगी। कंट्रोल रूम से चप्पे-चप्पे पर नजर रखी जाएगी। - जिला सूचना उपायुक्त कार्यालय के पास पेशी के लिए आने वाले कैदियों की गाड़ी खड़ी होती है।

कैदियों में कई बार बहस हो जाती है, जो भी रिकार्ड की जाएगी। - जिला न्यायालय में जाने के लिए जज भी इसी रास्ते का प्रयोग करते हैं। इसे ध्यान में रखते हुए यहां लगने वाले कैमरे से रिकार्डिग होगी।

जल्द लगाए जाएंगे कैमरे कलक्ट्रेट परिसर की सुरक्षा और धरने-प्रदर्शन पर नजर रखने के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। शुरुआत में मुख्य गेट के आसपास कैमरे लगाए जाएंगे। सफल होने पर पूरे परिसर को कैमरे से लैस किया जाएगा। इसका काम अगले वर्ष ही शुरू हो पाएगा। शशिभूषण, जिला अधिकारी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कलक्ट्रेट की सुरक्षा व्यवस्था में नजर रखेगी तीसरी आंख