DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इलाज के लिए सड़कों पर काट रहे हैं रात

एम्स में इलाज के लिए आने वाले मरीजों के रहने की व्यवस्था को लेकर अस्पताल प्रशासन पर पहले भी कई बार सवाल उठते रहे हैं। लेकिन बावजूद इसके प्रशासन मरीजों के रहने की व्यवस्था को लेकर आज भी बेबश और लाचार दिखता है। जिस वजह से इलाज के लिए महीनों तक इंतजार करने वाले मरीज और उनके परिजन प्रशासन के उदासीन रवैये और पैसे की कमी की वजह से कड़ाके की ठंड में मेट्रो स्टेशन के बाहर रात गुजारने को मजबूर हैं। इन्हीं मरीजों में से एक धनवंती और काली भूमियां से बातचीत कर हालचाल जानने की कोशिश की हिन्दुस्तान संवाददाता ने।

बिहार से आई धनवंती ने बताया कि वो अपने बेटे के इलाज के लिए पिछले छह महीने से दिल्ली में हैं। इस दौरान वह कुछ समय तक एम्स के नजदीक के एक धर्मशाला में रह रही थी, लेकिन पैसे की कमी की वजह से उन्हें धर्मशाला छोड़ना पड़ा। रहने का कोई ठिकाना न होने की वजह से वो मेट्रो स्टेशन के बाहर रहने पर मजबूर हैं। वहीं काली भूमियां (निवासी उत्तर प्रेदश) ने बताया कि पैसे न होने की वजह से वह पिछले दो महीने से मेट्रो स्टेशन के बाहर रहने के लिए विवश है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इलाज के लिए सड़कों पर काट रहे हैं रात