DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एंकर पेज 6

किसान उत्तराखंड की मिलों में गन्ना बेचने को मजबूरओसवाल शुगर मिल शुरू नहीं होने से बढ़ी दिक्कतेंबरेली। निज संवाददाताकिसान पड़ाेसी प्रदेश उत्तराखंड की शुगर मिलों में गन्ना बेचने को मजबूर हैं। पंद्रह दिन गुजरने पर भी ओसवाल शुगर मिल में पेराई शुरू न होने से यूपी का गन्ना उत्तराखंड की मिलों में जा रहा है। किसानों ने क्षेत्र के आधे से अधिक क्रय केंद्रों पर तौल शुरू न होने की शिकायत की है। नवाबगंज और बहेड़ी क्षेत्र के किसान उत्तराखंड की किच्छा, गदरपुर और रुद्रपुर शुगर मिलों को गन्ना बेच रहे हैं। नवाबगंज की ओसवाल शुगर मिल 15 दिन गुजरने के बाद भी शुरू नहीं हो सकी है। इस कारण क्षेत्र के किसानों का गन्ना खेतों में सूखने की कगार पर है। नुकसान से बचने को किसानों ने उत्तराखंड को गन्ना ले जाना शुरू कर दिया है। नवाबगंज क्षेत्र के साथ-साथ बहेड़ी के किसान भी उत्तराखंड की मिलों को गन्ना ले जा रहे हैं। इससे समय से खेत खाली हो सके और नुकसान से भी बचा जा सके। ओसवाल शुगर को मिल को 14341 हेक्टेयर रकबे का लक्ष्य दिया गया था। इस बार मिल को 81.60 लाख क्विंटल गन्ने की पेराई करनी थी। मगर, मिल में अब तक पेराई शुरू नहीं हो सकी है। क्षेत्र के किसान राम कैलाश, हेतराम गंगवार, अनीस अंसारी और बिहारी लाल ने बताया कि मिल के 30 गन्ना क्रय केंद्रों में से मात्र पांच-छह सेंटरों पर ही तौल शुरू हो चुकी है। इन सेंटरों पर भी मनमाने तरीके से खरीद की जा रही है। उन्होंने बताया कि खेतों में गन्ना सूखने लगा है। इस कारण पीलीभीत की बरखेड़ा और एलएच शुगर मिलों में गन्ना दिया, लेकिन यह मिलें भी किसानों का शोषण कर रही है। इस कारण अधिकांश किसान उत्तराखंड की मिलों को गन्ना बेच रहे हैं।यूपी से 15 रुपए क्विंटल महंगा गन्नाप्रदेश में गन्ने के दाम 235, 240 और 245 है। जबकि उत्तराखंड की मिलों में इसी गन्ने के दाम 250 और 255 है। उत्तराखंड में गन्ना बेचने से 15 रुपए क्विंटल का फायदा अधिक है तो वही दिक्कत भी नहीं।पीलीभीत की मिलों में क्षेत्र के किसान गन्ना बेच रहे हैं। इस कारण क्रय केंद्रों पर तौल शुरू करा दी गई है। साथ ही कुछ किसान उत्तराखंड की मिलों में भी गन्ना बेचने ले जा रहे हैं। अरविंद कुमार गंगवार, अध्यक्ष, सहकारी गन्ना समिति, नवाबगंजओसवाल के क्रय केंद्रों पर तौल शुरू हो गई है। मिल भी शुरू हो जाएगी। अगर, किसानों को दिक्कत हो रही है तो तुरंत बताएं। डॉ. आरपी यादव, जिला गन्ना अधिकारी, बरेली

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एंकर पेज 6