DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पायलट इंजन से राजधानी एक्सप्रेस का एस्कॉर्ट

वरीय संवाददाता पटना। नक्सलियों के सर्वोच्च कमांडरों में शुमार कोटेश्वर राव उर्फ किशनजी के मुठभेड़ में मारे जाने के प्रतिशोध में माओवादियों के बंद ने रेल पुलिस और खुफिया तंत्र की नींद उड़ा रखी है।

रेल क्षेत्र में नक्सली हमले की आशंका को देखते हुए राजधानी एक्सप्रेस समेत करीब आधा दर्जन महत्वपूर्ण ट्रेनों का पायलट इंजन से एस्कॉर्ट किया जा रहा है। सुरक्षा दस्ते से लैस पाइलट इंजन पहले खुलती है फिर थोड़ी देर बाद ट्रेन चलती है। खासकर रात और भोर में राजधानी एक्सप्रेस के अलावा पटना-हटिया एक्सप्रेस, गंगा-दामोदर एक्सप्रेस, बुद्ध पूर्णिमा एक्सप्रेस व अन्य ट्रेनों को पटरी पर विशेष सुरक्षा कवच में चलाया जा रहा है।

दानापुर मंडल में पटना-किउल और पटना-गया रेल खंड नक्सलियों के सॉफ्ट टारगेट पर रहा है। दोनों खंडों पर सिर्फ नदौल और नरगंजों स्टेशन पर ही पिछले 5 वर्षो में नक्सलियों के आधा दर्जन से अधिक बडेम् हमले हो चुके हैं। कुछ महीने पहले भी नक्सलियों ने नदौल स्टेशन पर उत्पात मचाया था।

बहरहाल सोमवार की रात चौकसी की अचानक चेकिंग करने पटना जंक्शन पहुंचे रेल एसपी सुरेश चौधरी ने बताया कि नदौल स्टेशन पर सैप दस्ते को तैनात किया गया है। पड़हिया, गुरारू, इस्माइलपुर, चाकंद समेत आधा दर्जन संवेदनशील स्टेशनों पर रेल पुलिस की टुकडियां कैम्प कर रही हैं। अतिरिक्त बल भी तैनात किये गये हैं। पटना, गया व कुछ अन्य स्टेशनों पर पुलिस दस्ते को रिजर्व रखा गया है ताकि किसी तरह की अप्रिय स्थिति उत्पन्न होने पर उन्हें तत्काल रवाना किया जा सके।

एहतियात के तौर पर पटना जंक्शन पर रेल डीएसपी (मुख्यालय) संजय कुमार और थानेदार रामपुकार सिंह ने दल-बल के साथ देर रात तक कई ट्रेनों में चेकिंग की। प्लेटफॉर्म और बुकिंग-पूछताछ काउंटर के समीप भी संदिग्धों की जांच की गई।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पायलट इंजन से राजधानी एक्सप्रेस का एस्कॉर्ट