DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शादी की बात से भड़क जाती थी डॉ. अंकिता

हिंडन, वरिष्ठ संवाददाता। डॉ. अंकिता शुक्ला की मौत खबर सुनते ही मंगलवार को उसके माता-पिता यहां पहुंचे। गमगीन माहौल में हिंडन में उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया। पिता राजेंद्र नाथ शुक्ल ने बताया कि शादी की बात करने से अंकिता भड़क जाती थीं। इसलिए उन्होंने शादी की बात करनी भी बंद कर दी थी। उन्होंने अपनी बेटी की हत्या किए जाने की आशंका जताई है।

ज्ञात हो कि सोमवार को डॉ. अंकिता शुक्ला की लाश साहिबाबाद क्षेत्र में रेलवे ट्रैक पर मिली थी। पुलिस इसे आत्महत्या का मामला मान रही है। उसके मोबाइल से मिली डिटेल के अनुसार उसने अपने प्रेमी को मेल भेजा था, जिसमें आत्महत्या की बात कही थी। सूचना मिलने पर मंगलवार सुबह अंकिता के पिता राजेंद्र नाथ शुक्ल, मां व अन्य रिश्तेदार यहां पहुंचे। पोस्टमार्टम हाउस से शव लेने के बाद हिंडन में अंतिम संस्कार कर दिया। और फिर सभी लौट गए। अंकिता दिल्ली में कहां बतौर पेइंग गेस्ट रहती थी, इन लोगों को नहीं मालूम। इस वजह से सभी लोग यहीं से वापस लखनऊ लौट गए। पिता ने बताया कि करीब दो साल पहले उन्होंने अंकिता की शादी के लिए लड़का देखा था।

इस संबंध में अंकिता से बात की तो वह नाराज हो गई। उसने शादी के लिए जल्दबाजी न करने के लिए कहा था। उन्होंने बताया कि अंकिता अक्सर अपने तीन दोस्तों के बारे में चर्चा करती थी। मनु, सुमित्र जैन और सुचित्र बर्मन। लेकिन उनके पास इन तीनों का कोई संपर्क नंबर नहीं है। उन्होंने बेटी की हत्या की आशंका जताई है। मृतका के एक हाथ की मुट्ठी बंद थी, जिसमें छोटे-छोटे बाल थे, जो किसी पुरुष के प्रतीत हो रहे हैं।

पिता का कहना है कि हत्या से पूर्व बेटी के साथ हाथापाई हुई हो, ऐसा लग रहा है और बेटी ने हत्यारे के बाल पकड़ लिए हों। इस संबंध में एपी सिटी जेके शाही ने कहा कि प्रथमदृष्टता यह मामला आत्महत्या का लग रहा है लेकिन पुलिस हत्या और आत्महत्या दोनों कोणों से जांच करेगी। 25 नवंबर को पिता के पास गई थी पिता राजेन्द्र नाथ शुक्ल के अनुसार, 26 नवंबर को इलाहाबाद में एलोपैथ चिकित्सा का एक्जाम था। अंकिता इसमें शामिल होने पूर्व 25 नवंबर को लखनऊ गई थी। इसके बाद इलाहाबाद चली गई। फिर पिता से कोई संपर्क नहीं है।

शुक्ल ने कहा कि उन्हें क्या मालूम था कि यह बेटी से अंतिम मुलाकात होगी। 20 साल से माता-पिता दोनों अलग रहे थे अंकिता करीब 9 साल की रही होगी तभी उसके माता-पिता में टकराव हो गया। दोनों लखनऊ में ही पिछले 20 सालों से अलग-अलग रह रह थे। पिता गोमती नगर और माता गायत्री नाका में रहती थीं। अंकिता को पिता ने ही पाल पोश कर बड़ा किया था। इलाहाबाद से की थी डॉक्टरी की पढ़ाई अंकिता ने इलाहाबाद स्थित मोती लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस की पढ़ाई 2002 और 2008 के बीच की थी। इसके बाद 2009 में दरियागंज दिल्ली स्थित कस्तूबरा गांधी मेडिकल इंस्टीट्यूट में एक साल की ट्रेनिंग पूरी की।

इस दौरान इंस्टीट्यूट ऑफ ह्यूमन बिहेवियर एंड एप्लाइड साइंस में 6 माह के लिए बतौर जूनियर डॉक्टर नौकरी की। 30 जुलाई को उसका कार्यकाल यहां से पूरा हो गया था और यहां से चली गई थी।गाजियाबाद में प्रैक्टिस करती थी अंकिताडॉक्टर अंकिता शुक्ला गाजियाबाद स्थित किसी हास्पिटल में प्रैक्टिस करती थी, मगर वह मौजूदा समय में कहां तैनात थी, इस बारे में कुछ भी पता नहीं चल पाया है। यहां तक की उसके घर वालों को भी उसके बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है। पुलिस मोबाइल कॉल व ईमेल डिटेल के जरिए कुछ सुराग जुटाने में लगी है। वहीं डॉक्टर के प्रेमी से अब तक पुलिस संपर्क नहीं कर सकी है, प्रेमी मौजूदा समय में मैक्सिको में है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शादी की बात से भड़क जाती थी डॉ. अंकिता