DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पूरे देश में याद की गई हजरत हुसैन की शहादत

मुहर्रम महीने की 10वीं तारीख आशूरा के दिन मंगलवार को पूरे देश में हजरत हुसैन की शहादत को याद किया गया। इस मौके पर जगह-जगह ताजिया निकाले गए और मातम किए गए। उत्तर प्रदेश और बिहार में कुछ स्थानों पर झड़पें भी हुईं।

शिया समुदाय के लोगों ने पैगम्बर मोहम्मद के नवासे हजरत हुसैन की शहादत के गम में मातम किया और मर्सिया पढ़े। सभी के लबों पर या हुसैन गूंज रहा था। सुन्नी समुदाय के लोगों ने इस मौके पर रोजे रखे। करीब 14,00 साल पहले आज ही के दिन कर्बला (इराक) के मैदान में यजीद की सेना के साथ लड़ते हुए हजरत हुसैन शहीद हो गए थे।

दिल्ली में आशूरा के दिन कई इलाकों में ताजिया निकाले गए। जोर बाग के कर्बला में बड़ी संख्या में ताजिया निकाले गए। इसके अलावा ओखला, पुरानी दिल्ली, सीलमपुर और जहांगीरपुरी में भी हजरत हुसैन के प्रति लोगों ने अपनी मोहब्बत और अकीदत का इजहार किया। कई स्थानों पर लोगों ने लाठियां और तलवार भांजने के परंपरागत युद्ध कौशल का भी प्रदर्शन किया।

उत्तर प्रदेश के चंदौली जिले के मलोखार गांव में दो गुटों के बीच हुई झड़प में कम से कम छह पुलिसकर्मी और पत्रकार घायल हो गए। इस दौरान एक दर्जन मकानों को आग के हवाले कर दिया गया। अधिकारियों का कहना है कि प्रभावित इलाके में पुलिस और पीएसी के जवानों को तैनात किया गया है। घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

बिहार के गया और शिवहर जिलों में अलग-अलग स्थानों पर ताजिया को लेकर हुई झड़प में 10 पुलिसकर्मियों सहित 25 लोग घायल हो गए। गया के पुलिस अधीक्षक (नगर) सत्यवीर सिंह ने बताया कि बोधगया थाना अंतर्गत गंगा विहार गांव में ताजिया ले जाने को लेकर दो गुटों के बीच हुई झड़प और पथराव में बोधगया के पुलिस उपाधीक्षक सुनील कुमार, बोधगया थाना अध्यक्ष टीएन तिवारी और चार अन्य पुलिसकर्मी सहित कुल 21 लोग घायल हो गए।

उन्होंने बताया कि हिंसक भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को हवा में दस राउंड गोलियां चलानी पड़ी। प्रभावित जगहों पर सुरक्षा बलों की तैनाती की गई है। वहीं, शिवहर जिला के तरियानी थाना अंतर्गत हिरम्मा गांव में ताजिया ले जाने को लेकर दो गुटों के बीच हुई क्षडप के दौरान बीचबचाव कर रही पुलिस पर किए गए पथराव में पुलिस उपाधीक्षक एस एम वकील अहमद सहित चार पुलिसकर्मी घायल हो गए, जिन्हें इलाज के लिए जिला सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

जम्मू-कश्मीर में आज प्रशासन की ओर से सुरक्षा संबंधी सख्ती की गई थी। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि मैसुमा और कोठीबाग पुलिस थानों ने एहतियाती तौर पर ये प्रतिबंध लगाए। इन प्रतिबंधों के तहत पुलिस ने लाल चौक इलाके में पैदल आवाजाही पर भी रोक लगाई। प्रतिबंधों के कारण लाल चौक, एचएसएच स्ट्रीट, रेजीडेंसी रोड और मौलाना आजाद रोड इलाके की सभी दुकानें और व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रहे। चौक की तरफ लोगों को आने से रोकने के लिए झेलम नदी के किनारे भी पुलिस और सीआरपीएफ बलों की तैनाती की गई थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पूरे देश में याद की गई हजरत हुसैन की शहादत