DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अपन का वन प्वाइंट प्रोग्राम... तीर ताने रहो

मौलाना थोड़े उबाल पर थे। पान बेरहमी से चबा कर बोले, ‘भाई मियां, अब नहीं रहा जाता। हर कोई दूसरे का मजाक उड़ाने पर पिला पड़ा है। यहां उत्तर प्रदेश का मजाक उड़ रहा है, वहां जन लोकपाल बिल का। फुटकर दुकानदार मजबूर ग्राहक का मजाक उड़ा रहा है और ससुराल वाले मेरा। कहते हैं कि बीस रोज को कहीं बाहर जा रहे हैं। अपने दोनों भेड़िए जैसे कुत्ते अब मेरे पास छोड़ जाएंगे। कोई उनसे पूछे भला कि कुत्ता पालने का शौक मुझसे पूछकर किया था। हम कहें कि अपनी औलादों की तरह कुत्तों को भी साथ ले जाओ।’

एक और पान मरोड़ कर मुंह में ठूंसा और बोले, ‘ऊपर से ये प्रेस वाले अलग दूध माठा कर रहे हैं। खबर ठोंक दी है कि कांग्रेस के बड़बोले नेताजी ने फिर अन्ना हजारे पर निशाना साधा है। इस नेताजी की नौकरी ही इतनी है कि ऐंगे-बैंगे बयान देकर बुजुर्ग अन्ना हजारे पर तीर-कमान ताने रहो। बोले हैं कि शरद पवार पर जो थप्पड़ मारा गया है, उसकी हिंसा अन्ना ने ही भड़काई है। सुभानल्लाह! यानी महाराष्ट्र में बैठे अन्ना ने दिल्ली वाले से कहा था कि सरदार बेटे, तू पवार साहब को एक थप्पड़ धर दे। जबकि युवक ने खुद कहा है कि महंगाई और भ्रष्टाचार से त्रस्त होकर उसने हमला किया। हो सकता है कि कल को यह खबर छप जाए कि काफी समय पहले जॉर्ज बुश पर जो जूता फेंका गया था, वह लखनऊ वाले मौलाना लादेन के भड़काने का नतीजा था।’

नजले के सबब मुंह में दो काली मिर्चे चुगला कर मौलाना फिर बोले, ‘भाई मियां, लोग अपने गिरेबान में झांक कर नहीं देखते कि देश को कहां से कहां पहुंचा दिया।  झट से इल्जाम दूसरे के सिर टीप देते हैं। खुद महंगाई कम करने के नाम पर हाथ खड़े कर दिए कि हम से कम न होगी। खुदा जाने किस मुंह से बड़बोले नेताजी सारे निशाने अन्ना पर साधते हैं। शरद पवारजी ने खुद कहा है कि अन्ना सच्चे गांधीवादी नेता हैं। आज सारा देश अन्ना हजारे और उनकी मुहिम का आदर करता है, पर बड़बोले नेता जी... खैर जाने दो। नतीजा तो खुद सामने आएगा। चलो मियां, एक-एक चाय लड़ा लें।’
के. पी. सक्सेना

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अपन का वन प्वाइंट प्रोग्राम... तीर ताने रहो