DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कांग्रेस के मुस्लिम कार्ड की काट तलाशने में जुटीं पार्टियां

मुसलमानों के लिए आरक्षण का प्रावधान करने के प्रस्ताव से अगले साल उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को मिलने वाले संभावित लाभ की काट ढूंढ़ने में राज्य के प्रमुख राजनीतिक दल जुट गए हैं।

कांग्रेस नीति केंद्र की संप्रग सरकार पिछड़े वर्ग के कोटे से अल्पसंख्यक समुदाय के लिए आठ फीसदी से अधिक के आरक्षण के प्रावधान की तैयारी कर रही है। माना जा रहा है कि इसमें से मुसलमानों के लिए छह फीसदी आरक्षण होगा।

आरक्षण के इस प्रस्तावित कदम को आने वाले विधानसभा चुनावों, खासकर उत्तर प्रदेश के चुनाव को देखते हुए महत्वपूर्ण माना जा रहा है। राज्य में अगले साल विधानसभा चुनाव होना है और ऐसे में कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी मुस्लिम मतदाताओं के बीच पार्टी की साख को ज्यादा से ज्यादा मजबूत बनाने की कोशिश में जुटे हैं।

मुस्लिम मतदाताओं को रिक्षाने की यह कोशिश समाजवादी पार्टी (सपा) को सबसे ज्यादा अखर रही है क्योंकि उसकी उम्मीदें भी इस बार इसी तबके पर टिकी हुई हैं। सपा के एक नेता का कहना है कि कांग्रेस के आरक्षण के कार्ड की काट ढूंढ़ने में पार्टी जुटी है और शीर्ष नेतत्व किसी भी सूरत में कांगेस को मुसलमानों का हमदर्द होने का तमगा मिलने नहीं देना चाहता है।

कहा जा रहा है कि सपा विधानसभा चुनाव के लिए जारी होने वाले घोषण पत्र में सबसे ज्यादा ध्यान मुस्लिम मतदाताओं पर ही केंद्रित करने वाली है। इस बारे में सपा के राष्ट्रीय सचिव कमाल फारूकी ने कहा, मुसलमानों को आरक्षण देने की बात बेवकूफ बनाने की एक कोशिश भर है। हम जनता के बीच इसका जवाब देंगे। इसके लिए हमारी योजना तैयार है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कांग्रेस के मुस्लिम कार्ड की काट तलाशने में जुटीं पार्टियां