DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इनोवेटिव यंग बायोटेक्नोलॉजिस्ट अवॉर्ड

आवेदन की अंतिम तिथि- 9 दिसम्बर, 2011

बायोटेक्नोलॉजी के क्षेत्र में काम कर रही युवा प्रतिभाओं को निखारने और बेहतर करने के लिए प्रेरित करने के उद्देश्य से 2005 में इनोवेटिव यंग बायोटेक्नोलॉजिस्ट अवॉर्ड की शुरुआत की गई। युवा बायोटेक्नोलॉजिस्ट के बीच इसे एक आकर्षक व रोजगारपरक स्कीम के तौर पर पहचाना जाता है। इस योजना के तहत लाभ पाने के इच्छुक युवाओं के लिए वर्ष 2011 की आवेदन प्रक्रिया शुरू हो गई है।

शैक्षणिक योग्यता
अवॉर्ड को पाने के इच्छुक युवाओं के लिए निर्धारित शैक्षणिक योग्यता की बात करें तो आवेदक का प्रथम श्रेणी का एकेडमिक रिकॉर्ड होना जरूरी है। रिकॉर्ड के तहत ग्रेजुएट स्तर के बाद की शैक्षणिक योग्यताओं को महत्व दिया जाता है। आवेदन के इच्छुक छात्र के लिए निर्धारित योग्यता लाइफ साइंसेज, वेटरनरी साइंसेज, फार्मेसी, एग्रीकल्चर साइंसेज और इंजीनियरिंग साइंसेज में पीएचडी प्राप्त होना जरूरी है। इसके अलावा मास्टर डिग्री इन मेडिसिन, इंजीनियरिंग/ टेक्नोलॉजी के छात्र भी अवॉर्ड के लिए आवेदन कर सकते हैं।

आयु सीमा
बायोटेक्नोलॉजिस्ट को मिलने वाले इस अवॉर्ड के लिए आयु सीमा को खासा महत्व दिया जाता है। आवेदन के इच्छुक की आयु सीमा 35 साल से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। आयु का आकलन 31 दिसम्बर, 2011 के तहत किया जाएगा। अनुसूचित जाति/ जनजाति/ अन्य पिछड़ा वर्ग, महिलाओं व शारीरिक रूप से विकलांग श्रेणी के तहत आने वाले आवेदकों को आयु सीमा में पांच साल की छूट दी जाती है। हालांकि छूट पाने के लिए आवेदक को इसके पक्ष में आवश्यक दस्तावेज पेश करने होते हैं।

अवॉर्ड की संख्या
बायोटेक्नोलॉजिस्ट को मिलने वाले अवॉर्ड की संख्या अधिकतम 25 निर्धारित है। इनका चयन एक आवश्यक प्रक्रिया के तहत किया जाता है। इस प्रक्रिया के तहत अवॉर्ड के इच्छुक युवा को प्रोजेक्ट से जुड़ा 30 मिनट का एक प्रेजेंटेशन भी देना होता है।

मिलने वाली सहायता
अवॉर्ड के तहत मिलने वाली सहायता की बात करें तो यह दो तरह से प्रदान की जाती है। पहली जो एक बार ही उपलब्ध कराई जाती है और दूसरी जो बार-बार मिलती है। इसे प्रदान करने का आधार पाने वाले युवा का रिसर्च प्लान और उसे क्रियान्वयन करने की प्रक्रिया होती है। सहायता के तहत संसाधनों से लेकर कम्युनिकेशन से जुड़ी सुविधा व ट्रेवल संबंधी सुविधाएं शामिल रहती हैं। अवॉर्ड के तहत चुने गए युवाओं को 40 हजार रुपये प्रतिमाह की राहत राशि उस सूरत में प्रदान की जाती है, जबकि वह कहीं नियमित रोजगार प्राप्त न हो या फिर कोई अन्य फैलोशिप उसे न मिली हो। यदि वह रोजगार प्राप्त होता है या फिर फैलोशिप पा लेता है तो उसे इसकी सूचना तुरंत डीबीटी को देनी होती है। ऐसी स्थिति में अवॉर्ड प्राप्त युवा को 1 लाख रुपये नकद प्रति वर्ष के हिसाब से सहायता राशि दी जाती है। इसके अलावा ऐसे अवॉर्ड प्राप्त युवाओं को प्रोजेक्ट से जुड़े संसाधनों के लिए अलग से सालाना 1 लाख रुपये की मदद दी जाती है।

अधिक जानकारी के लिए सम्पर्क करें :
डॉ. टी. मदन मोहन, सलाहकार,
डिपार्टमेंट ऑफ बायोटेक्नोलॉजी, ब्लॉक-2, सीजीओ कॉम्प्लेक्स, लोधी रोड, नई दिल्ली - 110003
वेबसाइट- www.dbtindia.gov.in/iyba.htm

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इनोवेटिव यंग बायोटेक्नोलॉजिस्ट अवॉर्ड