DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

साइंस से घिरे हैं हम-तुम

साइंस से घिरे हैं हम-तुम

साइंस हमारे चारों ओर है। जरा नजर उठाकर तो देखो। तुम्हारी पेंसिल, कॉपी, पेन, बॉटल बनने से लेकर बस, कंप्यूटर, टीवी, पापा की कार तक हर चीज में साइंस का योगदान है। साइंस की मदद से ही इन चीजों को बनाया गया है। इसलिए सिर्फ यह विषय तुम्हारी सोच को कई गुना आगे ले जाने का काम करता है। साइंस के बारे में तुम्हें और मजेदार बातें बता रही हैं मोनिका मीनल 

तुम्हें पता है

जीरो डिग्री सेल्सियस पर पानी बर्फ में बदल जाता है।
लैक्टोबैसिलस बैक्टिरिया से दूध दही में बदल जाता है।
पृथ्वी अपनी एक्सिस यानि धुरी पर घूमती है जिससे दिन और रात होते हैं।
गुरुत्वाकर्षण बल की वजह से पृथ्वी वस्तुओं को अपनी ओर खींचती है।
अंतरिक्ष में गुरुत्वाकर्षण बल नहीं है।

सुबह-सुबह जब रोहन की आंख खुली तो उसने देखा कि मम्मी थर्मामीटर लगाकर उसका बुखार देख रही हैं।
रोहन ने पूछा, ‘ये थर्मामीटर किसने बनाया था मम्मी’?

मम्मी ने जवाब दिया एक मशहूर वैज्ञानिक गैलिलीयो ने थर्मामीटर का आविष्कार किया था। ‘ये वैज्ञानिक का मतलब..’ रोहन ने फिर से सवाल किया, अब मम्मी ने कहा, ‘जिस साइंस से तुम घबराते हो ना, ये उसी की देन है। साइंस पढ़ के ही साइंटिस्ट यानि वैज्ञानिक बनते हैं’।

रोहन की तरह ही न जाने तुम में से कितने ही बच्चे होंगे जो साइंस का नाम सुनते ही घबराकर कन्नी काटने की कोशिश करने लगते होंगे। सोचते हो कि, उफ्फ ये साइंस किसने बना दी। लेकिन आज हम तुम्हें बताते हैं कि साइंस यानि विज्ञान हमारे लिए कितनी फायदेमंद और जरूरी है और इसके बिना हम अपनी जिंदगी की कल्पना भी नहीं कर सकते।

मेडिकल है वरदान
मेडिकल के क्षेत्र में भी विज्ञान ने हमारे लिए बहुत सुविधाएं जुटाई हैं। आज कई बीमारियों का इलाज मामूली गोलियों से हो जाता है। कैंसर और एड्स जैसे बड़ी बीमारियों के लिए डॉक्टर्स और चिकित्सा विशेषज्ञ लगातार प्रयास कर रहे हैं। नई-नई कोशिकाओं के निर्माण में भी सफलता प्राप्त कर ली गई है।

प्रयोगों को शुरू तो करो.
साइंस एक ऐसा सबजेक्ट है जो हमारी जिज्ञासा को शांत करता है। साइंस की दुनिया काफी बड़ी है। कैंडल को जलते हुए देखा होगा तुमने। पर कभी सोचा है उसके इस तरह जलने में कौन सबसे ज्यादा हेल्प करता है। तो चलो एक प्रयोग के जरिए देखते हैं कि इसमें कौन सी साइंस की थ्योरी काम करती है-

बिना ऑक्सीजन के कैंडिल जल नहीं सकती, चाहो तो आजमा कर देख लो।
एक कैंडिल लो। उसे जलाकर मेज पर रख दो। अभी तो उसे ऑक्सीजन मिल रही है तो वो आसानी से जल रही है पर अब एक ग्लास उस पर उल्टा कर रख दो। ऐसा करते ही तुम्हारी कैंडिल बुझ जाएगी। क्योंकि उसे ऑक्सीजन मिलनी बंद हो गई ना।

हमारे चारों ओर है साइंस
हमारे आस-पास हर चीज में साइंस है। चाहे वह पृथ्वी हो, ऊर्जा, जलवायु या फिर मौसम की जानकारी हो, सब के पीछे साइंस ही है। साइंस एक ऐसा विषय है जो दूर से तो कठिन लगता है पर जब नजदीक जाओगे तो इतना आसान और मजेदार कि हर वो चीज जो तुम्हारे आस-पास है, सबमें साइंस ही खोजने लगोगे तुम।
चाहे वो तुम्हारी मम्मी का किचेन हो जहां प्रेशर कुकर में मम्मी तुम्हारे लिए झटपट खाना बनाती हैं या तुम्हारे गार्डन में माली आकर जब एक छोटा पौधा लगा जाता है और वो कैसे बड़ा हो खुशबूदार फूल और मीठे-मीठे फल देता है, इनका उत्तर साइंस के पास है। तुम्हारा गार्डन भी तुम्हारे साइंस के प्रयोग की जगह बन सकता है।
तुम्हारे हर सवाल का जवाब साइंस दे सकता है इसलिए इससे भागो मत, इस रोचक सबजेक्ट के करीब जाओ। इसे रटने की बजाय हर बात के पीछे जो कारण है, उसे जानने की कोशिश करो। इसे समझो ज्यादा, याद कम करो। इससे तुम्हें यह समझ आएगा कि साइंस हर चीज की उत्पत्ति का एक ठोस कारण बताता है।

अच्छा, जरा सोचकर बताओ कि आसमां नीला क्यूं है, फल पेड़ से टूटने के बाद नीचे ही क्यों गिरता है, ऊपर क्यूं नहीं जाता, एक छोटा सा बीज बड़ा पेड़ कैसे बन जाता है, ऐसे छोटे-छोटे न जाने कितने ही सवाल जो तुम्हारे जेहन में आ जाते होंगे सब का जवाब इसी जादू की पुड़िया में बंद है, जिसका नाम है साइंस।

हमारे शरीर में भी साइंस है। तुम्हारे सांस लेने से लेकर जो चॉकलेट और कैंडीज तुम आसानी से पचा जाते हो इस पूरी प्रक्रिया में साइंस का ही योगदान है। क्या कभी सोचा है तुम्हारी पाचन क्रिया किस तरह काम करती है।

मुंह में टॉफी डालकर तुम तो उस मीठे स्वाद में गुम हो जाते हो पर उसको पचाने में तुम्हारी बॉडी कितने केमिकल्स का उपयोग करती है, यह सब रोचक बातों की जानकारी तुम्हें तुम्हारा साइंस ही बताएगा। यही नहीं तुम्हारी बीमारी को भी साइंस ही दूर भगाती है।

विज्ञान के फायदे
आज विज्ञान का युग है। लोग कम से कम मेहनत करके ज्यादा फायदा और आराम पाना चाहते हैं। उसके लिए तरह-तरह की मशीनें बनाई जा रही हैं। नई-नई चीजों की खोज हो रही है और इसी का रिजल्ट है- बिजली,  रेडियो, कंप्यूटर, मोबाइल, इंटरनेट, ई-मेल्स, मोबाइल पर 3जी और इंटरनेट के माध्यम ने तो जिंदगी को बदलकर ही रख दिया है। जितनी जल्दी तुम सोच सकते हो लगभग उतनी ही देर में जिसे चाहे मैसेज भेज सकते हो, उससे फोन पर बातें कर सकते हो। चाहे वह दुनिया के किसी भी कोने में क्यों न हो। जबकि पहले तो लोगों को एक जगह से दूसरी जगह पहुंचने या पत्र भेजने में कई दिन लग जाते थे।

टीवी पर जो तुम कार्टून देखते हो ना, वो भी साइंस की वजह से ही मुमकिन हो सका है। तुम्हारे पसंदीदा कार्टून चैनल्स को सैटेलाइट के माध्यम से तुम तक पहुंचाया जाता है। हमारे ढेर सारे काम बिजली की मदद से होते हैं। जो रंग-बिरंगी बुक्स तुम पढ़ते हो और जो ये न्यूजपेपर तुम्हारे हाथ में है, उसके प्रिंट होने में भी साइंस ही मदद करता है। खेतों में अनाज की उपज बढ़ाने के लिए ट्रैक्टर बनाये गये हैं। साथ ही कई तरह की खाद और कीटनाशक भी, जिससे हमें बेहतर और उम्दा खाना मिले, कपड़ों की जरूरत पूरी करने के लिए तरह-तरह की मशीनें बनाई गई। इसकी मदद से कम समय में अधिक चीजें बनाई जाती हैं। यहां तक की देश की रक्षा के लिए भी साइंस की मदद से तरह-तरह के हथियार बनाए गए, ताकि हम हर समय अपने दुश्मनों से टक्कर लेने को तैयार रहें। अब तो तुम यह मानोगे ही कि साइंस हमारी जिंदगी के लिए वरदान है। 

आरामदेह जिंदगी
विज्ञान के आविष्कारों के कारण मनुष्य का जीवन पहले से अधिक आरामदायक हो गया है। तुम अपनी नजरें जिधर दौड़ाओगे, सब तरफ तुम्हें साइंस ही नजर आएगा। साइंस ने हमारी जिंदगी काफी आरामदेह बना दी है। और अब हम उसके बिना जी भी नहीं सकते। स्कूल की छुट्टियों में तुम अपने पैरेंट्स के साथ घूमने जाते हो ना। ये ट्रेनें, एरोप्लेन, बसें, कार आदि यातायात के साधनों से आज ट्रेवेल करना कितना सुविधाजनक हो गया है। महीनों की यात्रा दिनों में तथा दिनों की यात्रा चंद घंटों में पूरी हो जाती है। इतनी स्पीड वाली ट्रेनें, हवाई जहाज, मेट्रो ट्रेन का प्रयोग किया जाता है।

कल्पना करो की एक दिन तुम्हें बिना कंप्यूटर, मोबाइल, टीवी, वीडियो गेम्स और लाइट के रहना पड़े.. कैसा लगेगा तुम्हें? क्या तुम रह पाओगे इन चीजों के बगैर! नहीं ना, तो फिर जब साइंस ने जो चीजें तुम्हें दी है उससे इतना प्यार तो साइंस को पढ़ने से डर कैसा। उसे समझो। तुम भी नई चीजें ईजाद कर सकते हो जो तुम्हारी लाइफ में चार चांद लगा सकती हैं और तुम्हारे साथ-साथ मम्मी-पापा का नाम भी रोशन कर सकती हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:साइंस से घिरे हैं हम-तुम