DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्कूल 15 दिन में वापस करें फीस

शिक्षा निदेशालय ने स्पष्ट कर दिया है कि वित्तीय सहायता के बिना मान्यता प्राप्त स्कूल फीस वापस करने को लेकर अपनी मनमानी नहीं चला सकते। स्कूलों को 15 दिनों के अंदर फीस और अन्य शुल्क को वापस करना ही होगा।

निदेशालय द्वारा जारी परिपत्र में कहा गया है कि अभिभावकों द्वारा दी गई जानकारी किसी भी स्थिति में गलत पाई जाने पर दाखिला रद्द करने या अभिभावक द्वारा नाम वापस लेने की स्थिति में स्कूलों को फीस वापस करनी होगी।

परिपत्र में कहा गया है कि अगर कोई अभिभावक दाखिला कराने के एक माह के अंदर दाखिला रद्द करवा लेता है तो स्कूल को एक माह का रजिस्ट्रेशन शुल्क, एडमिशन शुल्क और टय़ूशन शुल्क छोड़ सारे शुल्क वापस करने होंगे। वहीं, दस्तावेजों में गड़बड़ी की स्थिति में दाखिला रद्द करने की स्थिति में रजिस्ट्रेशन शुल्क को छोड़कर सारे शुल्क वापस करने होंगे।

निदेशालय ने कहा है कि स्कूलों द्वारा नियमों के उल्लंघन को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। अभिभावक को किसी भी तरह की परेशानी होती है तो वह शिक्षा निदेशालय में अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

एडमिशन नर्सरी डॉट कॉम के प्रमुख सुमित वोहरा का कहना है कि स्कूलों को ये आदेश जारी कर निदेशालय ने सराहनीय काम किया है। उन्होंने कहा कि अभिभावकों को ये जांचना जरूरी है कि स्कूल शिक्षा निदेशालय से संबद्ध है या नहीं। संबद्ध न होने की स्थिति में फीस वापस नहीं होगी। ऐसे में आवश्यक है कि अभिभावक कैश जमा करने की स्थिति में पावती जरूर लें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्कूल 15 दिन में वापस करें फीस