DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पीरियोडिक टेबल में दो और तत्व होंगे शामिल

पीरियोडिक टेबल में दो और तत्व होंगे शामिल

रसायन विज्ञान की कक्षाओं में रसायनिक तत्वों के मान के बारे में जानकारी देने के लिए दीवारों पर चिपके पीरियोडिक टेबल में दो और तत्व जुड़ने वाले हैं।

इंटरनेशनल यूनियन ऑफ प्योर एंड अप्लाइड केमिस्ट्री के मुताबिक लीवरमोरियम और फ्लेरोवियम तत्वों के पेरियोडिक टेबल में जल्द ही 114वां और 116वां स्थान ले सकते हैं।

गौरतलब है कि तीन अन्य तत्व हाल ही में 110, 111 और 112वें स्थान पर शामिल किये गए हैं। आधिकारिक कागजी कार्रवाई पूरी होने से पहले और टेबल में इन नये तत्वों को शामिल किये जाने से पहले पांच महीने की जन चर्चा कराई जाएगी।

यह पांचों तत्व इतने अस्थिर हैं कि इन्हें सिर्फ प्रयोगशालाओं में ही बनाया जा सकता है और ये बहुत जल्द टूट कर अन्य तत्वों में बदल जाते हैं। इन तत्वों के बारे में अधिक जानकारी नहीं है क्योंकि वे प्रयोग करने के लिए पर्याप्त रूप से स्थिर नहीं हैं और प्रकृति में नहीं पाये जाते हैं। इन्हें सुपर हेवी या ट्रांसयूरेनियम तत्व कहा जाता है।

वहीं, 113, 115, 117 और 118 स्थानों के तत्व रूस के दुबना स्थित संयुक्त परमाणु रिसर्च में तैयार किये जा रहे हैं लेकिन उनके बनने के बारे में इंटरनेशनल यूनियन ने अभी तक पुष्टि नहीं की है। जब इनकी पुष्टि हो जाएगी, फिर इनका नामकरण किया जाएगा और लोगों की टिप्पणी मांगी जाएगी।

लीवरमोरियम और फ्लेवोरियम, दोनों ही तत्व इसी रूसी प्रयोगशाला में तैयार किये जा रहे हैं। यहां रूसी शोधकर्ता अमेरिकी शोधकर्ताओं के साथ काम कर रहे हैं। तत्व 114 को पहले अनअनक्वैडियम नाम से जाना जाता था लेकिन बाद में इसका नामकरण फ्लेरवोरियम किया गया। वहीं, तत्व 116 का अस्थायी रूप से अनअनहेक्सियम नाम था जिसे लीवरमोरियम नाम दिया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पीरियोडिक टेबल में दो और तत्व होंगे शामिल