DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पटना के तीनों विद्युत शव दाह गृह खराब

वरीय संवाददाता पटना। नगर निगम क्षेत्र के तीनों विद्युत शव दाह गृह खराब हैं। गुलबी घाट विद्युत शव दाह गृह का मोटर जल गया तो खाजेकलां में मशीन में खराबी आ गई है। बांस घाट विद्युत शव दाह गृह का क्वायल जल गया है। इसमें गुलबी घाट और खाजेकलां को खराब हुए महीनों गुजर गए जबकि बांस घाट वाला शवदाह गृह पिछले एक माह से खराब है।

तीनों शव दाह गृहों की मशीन में आई खराबी के बारे में पूरी जानकारी निगम को है। इसके महत्व को जानते हुए भी निगम के पदाधिकारी खराब हुई मशीनों को बनाने के लिए अभी कागजी कार्रवाई भी पूरी नहीं कर सके हैं। वैसे पदाधिकारियों का दावा है कि एक सप्ताह के अंदर खराब पड़ी मशीनों को ठीक करा दिया जाएगा।

निगम के दावों पर भरोसा करने बाद भी कम से कम अभी 15 दिन और तीनों विद्युत शव दाह गृह बंद रहेंगे। इसका कारण यह है कि मशीन चालू किए जाने बाद चेंबर गर्म होने में सात दिन का समय लगता है। इसके बाद ही शव जलाने का काम शुरू किया जा सकता है।

शव जलाने में हो रही परेशानी पैसे वाले लोग तो लकड़ी पर शव जला रहे हैं लेकिन गरीब तबके के लोगों के लिए बड़ी समस्या है। महंगी लकड़ी पर शव जलाना हर तबके के लोगों के बूते से बाहर है। लकड़ी पर शव जलाने में चार से पांच हजार रुपए खर्च करने पड़ते हैं जबकि बिजली पर इसका खर्च मात्र तीन सौ रुपए है।

नतीजतन गरीब तबके के लोग शव को गंगा में प्रवाहित कर रहे हैं। सबसे बुरा हाल तो लावारिस शवों का है। ऐसे शवों का अंतिम संस्कार करने के लिए थाने को प्रति शव मात्र पांच सौ रुपए दिए जाते हैं। विद्युत शव दाह गृह खराब रहने के कारण इतने कम पैसे में लकड़ी पर शवों का अंतिम संस्कार करना संभव नहीं है।

नतीजतन अभी लावारिस शवों के साथ थानेदार क्या सलूक कर रहे हैं कहने की जरुरत नहीं है। सूत्रों पर विश्वास करें तो लावारिस शवों को रात के अंधेरे में गंगा में फेंक दिया जा रहा है। पैसे का प्रबंध कर लिया गया है। एक सप्ताह के अंदर मशीन ठीक करा दी जाएगी। राम स्वारथ सिंह, मुख्य अभियंता पटना नगर निगम

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पटना के तीनों विद्युत शव दाह गृह खराब