DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लालू और मिश्र समेत तीन दर्जन आरोपितों की मुश्किल बढ़ी

हिन्दुस्तान प्रतिनिधि पटना। सीबीआई की विशेष अदालत ने शनिवार को बहुचर्चित चारा घोटाला के एक मामले (आरसी 63 ए /96) के आरोपित और आपूर्तिकर्ता महेन्द्र प्रसाद का बयान 164 के तहत दर्ज कराने की अनुमित दी है। इसके कारण चारा घोटाला के इस मामले के आरोपितों राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. जगन्नाथ मिश्र समेत 34 लोगों की मुश्किलें एक बार फिर बढ़ सकती है।

चारा घोटाला का यह मामला भागलपुर कोषागार से 47 लाख रुपए की अवैध निकासी से जुड़ा है। सीबीआई ने महेन्द्र को वादा माफी गवाह बनाने के लिए आवेदन दिया था। साथ ही महेन्द्र ने भी सरकारी गवाह बनने के लिए अदालत में आवेदन दिया था। उनके इस आवेदन को सीबीआई के तत्कालीन विशेष न्यायाधीश ने खारिज कर दिया था।

इसी मामले में पटना हाईकोर्ट ने महेन्द्र का बयान दर्ज कराने के लिए सीबीआई की विशेष अदालत को निर्देश दिया था। इस मामले पर सुनवाई करने के बाद सीबीआई के विशेष न्यायाधीश विजय कुमार श्रीवास्तव ने महेन्द्र का बयान दर्ज कराने का आदेश दिया। बयान दर्ज करने के लिए न्यायिक दंडाधिकारी निमता चन्द्रा को अदालत ने प्रतिनियुक्त किया है।

विदित है कि राजद सुप्रीमो व डॉ. मिश्र समेत बारह आरोपितों का आरोप विमुक्ति आवेदन को सीबीआई पहले ही खारिज कर चुकी है। मामले की अगली सुनवाई 22 दिसम्बर को होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लालू और मिश्र समेत तीन दर्जन आरोपितों की मुश्किल बढ़ी