DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रयोग सफल रहा तो पुलिस की मुश्किल होगी आसान

मैनपुरी, कार्यालय संवाददाता। किसी की चेन छीन ली तो कहीं अपराधी झपट्टा मारकर पर्स छीन ले गया। किसी गली में संदिग्ध लोगों की आमद है मगर पुलिस को इसका पता नहीं है। ऐसे में पुलिस इन सामाजिक अपराध पर रोक नहीं लगा पा रही है।

अब गली मोहल्लों या फिर प्रमुख मार्गों पर होने वाले अपराध बच्चों रोकेंगे। नगर के सेन्टमेरीज स्कूल में इस तरह का प्रयोग शुरू किया जा रहा है। इस प्रयोग में ज्यादा कुछ नहीं है बस स्कूली बच्चों ने जिले के आलाधिकारियों के फोन नम्बर याद किये हैं जहां भी अपराध या अपराधी दिखा ये स्कूली बच्चों तुरंत ही अधिकारियों के नम्बर घनघना देंगे।

इसके पीछे मकसद बच्चों को समाज के प्रति जिम्मेदार बनाना है और उनमें सिविक्स सेंस विकसित करना है। सेन्टमेरीज स्कूल के इन बच्चों की डेली डायरी में अधिकारियों के नम्बर के साथ हॉस्पिटल की इमर्जेसी का नम्बर और फायर ब्रिगेड के नम्बर भी अंकित किये जायेंगे। सेन्टमेरीज स्कूल में प्रबंधक दीपकदास का कहना है कि आमतौर पर सड़कों और मोहल्लों में होने वाले छोटे-मोटे अपराध पुलिस तक नहीं पहुंच पाते हैं जो आगे चलकर अपराधियों का हौसला बढ़ाते हैं।

इसीलिए उन्होंने फैसला किया है कि शहर को आदर्श बनाने के लिए और अपराध कम करने के लिए बच्चों को भी उनकी जिम्मेदारियां बतायी जायें। इसी के तहत उनके स्कूल में पढ़ने वाले प्रत्येक बच्चों को जिले के सभी वरिष्ठ अधिकारियों जैसे डीएम, एसपी, सीडीओ, एसडीएम, सीओ, इंस्पेक्टर आदि के सीयूजी फोन नम्बर अपनी डेली डायरी और नोटबुक में दर्ज करने के लिए कहा गया है ताकि अगर इन बच्चों के सामने कोई भी अपराध या घटना होती है तो ये बच्चों फौरन इन अधिकारियों को जानकारी दे दें। सेन्टमेरीज में शुरू किये गये इस प्रयास की शहर के लोगों ने सराहना की है। साहित्यकार प्रो. डा. शिवजी श्रीवास्तव का कहना है कि सेन्टमेरीज स्कूल द्वारा किये गये प्रयास जनहित में सराहनीय कदम है। इससे शहर में होने वाली घटनाओं पर रोक लग सकेगी। साथ ही पीडिम्त को समय पर उपचार भी मिल सकेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्रयोग सफल रहा तो पुलिस की मुश्किल होगी आसान