DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

परीक्षा के बीच पेन बदलने की लेनी होगी लिखित अनुमति

ग्रेटर नोएडा। महामाया तकनीकी विश्वविद्यालय ने अपने एग्जाम कोड में कई बदलाव किए हैं। इसमें सबसे महत्वपूर्ण कॉपियों की जांच को लेकर है। विवि ने आदेश दिया है कि अगर कोई छात्र पेपर के बीच में पेन बदलता है तो, उसे कॉपी के उसी पन्ने पर कक्ष निरीक्षक से लिखित अनुमति लेनी होगी। केंद्र अधीक्षक की मुहर भी लगवानी होगी।

अगर ऐसा नहीं किया गया तो, नए पेन से दिए गए जवाबों पर अंक नहीं मिलेंगे।परीक्षा में नकल या कॉपी में हेरफेर को रोकने के लिए महामाया तकनीकी विश्वविद्यालय ने नए नियम बनाए हैं। नियमों की जानकारी सभी परीक्षा केंद्रों को भेजी गई है। ग्रेटर नोएडा के परीक्षा केंद्रों के नोडल अधिकारी डा.डीके कॉल ने बताया कि विवि ने इस बार परीक्षा में कुछ नए नियम लागू किए हैं।

अब पहले की तरह छात्र परीक्षा में अपने मन से पेन नहीं बदल सकते हैं। पेन बदलने के लिए उन्हें मंजूरी लेनी होगी। पेन खत्म हो जाने, खराब हो जाने या फिर किसी और कारण से बदलने के लिए केंद्र अधीक्षक की अनुमति जरूरी है। छात्र जिस पन्ने से पेन बदलेगा, वहां केंद्र अधीक्षक का हस्ताक्षर और उसकी मुहर लागाई जाएगी। अनुमति आख्या लिखी जाएगी।

छात्रों को बीच में पेज खाली छोड़ना भी भारी पड़ सकता है। बीच में पेज खाली छोड़ने पर खाली पेज पर मुहर लगानी जरूरी है। अगर कोई छात्र इन नियमों का पालन नहीं करेगा तो, आगे के उत्तरों की जांच नहीं होगी। इतना ही नहीं सारे उत्तर हल करने के बाद कॉपी के अंत में ‘द एंड’ लिखना भी जरूरी है।

इसके अलावा परीक्षा एक ही रंग के पेन से देनी होगी। अब छात्र शीर्षक और उत्तर अलग-अलग रंग के पेन से नहीं लिख सकते हैं। किसी चीज को छात्र हाई लाइट करने के लिए हाई लाइटर का भी इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं।---कई और नए नियम भी बने हैं1. अब आधे-अधूरे जवाबों पर भी अंक दिए जाएंगे। विवि ने केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा परिषद की तरह स्टेप मार्किंग शुरू की है। इससे छात्रों को फायदा होगा।2. कॉपियां परीक्षा केंद्रों पर ही सील करके नोडल सेंटर भेजी जाएंगी।

पहले कॉपियां नोडल सेंटर पर सील होती थीं। इससे हेरफेर की गुंजाइश कम होगी।3. नोडल सेंटर पर जिस कमरे में प्रश्न पत्र रखे होंगे, उन्हें कैमरे के माध्यम से विवि मुख्यालय से जोड़ा गया है। कक्ष पर हर समय नियंत्रण कक्ष ध्यान रखेगा।4. पेपर के दौरान कक्ष निरीक्षकों के लिए चाय-नाश्ता बंद कर दिया गया है। विवि का मानना है कि कक्ष निरीक्षक चाय-नाश्ते में उलझ जाते हैं। इस दौरान छात्र चीटिंग करते हैं।---हमने सभी केंद्रों को एग्जाम कोड भेज दिया है। केद्रों पर कोड चस्पा करवाया गया है। साथ ही कक्ष निरीक्षकों को हिदायत दी है कि वे भी परीक्षा शुरू होने से पहले पेन बदलने संबंधी नियम छात्रों को बोलकर बताएं। जिससे गलती की गुंजाइश न रहे। इसके बाद भी अगर कोई छात्र नियम का पालन नहीं करेगा तो, उसकी कॉपी जांचते वक्त अंक नहीं दिए जाएंगे। प्रो. एसके काक, वीसी एमटीयू

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:परीक्षा के बीच पेन बदलने की लेनी होगी लिखित अनुमति