DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विकास के लिए पश्चिमी देशों के मॉडल की नकल न करें

भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने कहा कि देश में विकास के लिए पश्चिम के मॉडल की नकल करना सही नहीं है। उन्होंने मल्टी ब्रांड रिटेल में एफडीआई पर सरकार से सवाल किया कि यह फैसला जल्दबाजी में क्यों लिया। पहले संसद में चर्चा क्यों नहीं कराई गई।

आडवाणी शुक्रवार को एचटी समिट में बोल रहे थे। उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार लोगों को यह कहकर गुमराह कर रही है कि खुदरा में एफडीआई आने से नौकरियां मिलेंगी तथा महंगाई कम होगी। उन्होंने कहा कि खुदरा कारोबार में विदेशी पूंजी आने से एक बड़ा समुदाय प्रभावित होगा। वॉलमार्ट कंपनी से सिर्फ पश्चिमी देशों का ही भला हो सकता है।

आडवाणी ने कहा कि एफडीआई से रोजगार के अवसर बढ़ने और महंगाई नीचे आने जैसे लुभावने दावे उस समय भी किए गए थे, जब अमेरिका के साथ असैनिक परमाणु करार किया था। इसके तीन साल बाद भी कोई नया परमाणु बिजलीघर नहीं बना है। क्या पीएम श्वेतपत्र लाकर बताएंगे कि दस वर्षों में इससे क्या हासिल होगा?

यह पूछने पर कि 2004 में राजग की अगुवाई वाले चुनावी घोषणा पत्र में भाजपा ने खुदरा कारोबार में एफडीआई की वकालत की थी, लेकिन अब रुख कैसे बदल गया, इस पर आडवाणी ने कहा कि उन्हें याद नहीं कि यह बात एनडीए के दस्तावेज में कैसे आई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विकास के लिए पश्चिमी-देशों के मॉडल की नकल न करें