DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कांग्रेस नेता के खिलाफ आरोप रद्द नहीं हो सकते: कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि हिमाचल प्रदेश में भूमि हड़पने के एक मामले में कांग्रेस सचिव आशा कुमारी पर लगे धोखाधड़ी और आपराधिक साजिश के आरोप रद्द नहीं हो सकते।

हिमाचल प्रदेश हाई कोर्ट के आदेश को खारिज करते हुए न्यायमूर्ति स्वतंत्र कुमार और न्यायमूर्ति रंजना प्रकाश देसाई की खण्डपीठ ने शुक्रवार को कहा ''हमारी राय में हाई कोर्ट ने निचली अदालत के आरोप तय करने के आदेश को पलट कर पूरी तरह गुमराह किया है।''

खण्डपीठ ने कहा कि हाई कोर्ट का फैसला कानूनी रूप से दोषपूर्ण है और इससे न्याय की हत्या हुई है।

जनवरी 2005 में चम्बा प्रखण्ड के विशेष न्यायाधीश पी.डी. गोयल ने हिमाचल प्रदेश की पूर्व मंत्री आशा कुमारी और अन्य पर 1998 के एक भूमि घोटाले के मामले में पांच धाराओं के तहत आरोप तय किये थे।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, ''हम चार जनवरी, 2005 को चम्बा के विशेष न्यायाधीश द्वारा तय किए गए आरोप को मंजूरी देते हैं और उन्हें निर्देश देते हैं कि कानून के अनुरूप मामले की सुनवाई करें।'' कुमारी और उनके पति बृजेंदर सिंह को चम्बा में राजस्व अधिकारियों के साथ मिलकर सरकारी दस्तावेजों से छेड़छाड़ कर 60 बीघा से अधिक सरकारी वन भूमि हड़पने के लिए आरोपित किया गया था।

चम्बा की निचली अदालत ने इस दम्पति पर राज्य सतर्कता विभाग द्वारा 15 दिसम्बर, 2001 को दर्ज की गई एक शिकायत के आधार पर आरोप तय किया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कांग्रेस नेता के खिलाफ आरोप रद्द नहीं हो सकते: कोर्ट