DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इतनी भी टेंशन मत ले यार

कॉमेडी फिल्मों के इस दौर में हालांकि ज्यादातर निर्देशक लगभग एक ही चीज फेरबदल कर परोस रहे हैं, लेकिन इनमें कुछ ऐसे भी हैं जो कॉमेडी के तहत कुछ ऐसा दिखाना चाहते हैं, जो दर्शक के मनोरंजन के साथ-साथ उसे कुछ सोचने पर भी मजबूर करता रहे। ऐसे एक निर्देशक हैं असगर खान, जो निर्देशक के अलावा लेखक, संगीतकार तथा गीतकार भी हैं। इनकी ताजा तरीन फिल्म का नाम है टेंशन मत ले यार। इस कॉमेडी फिल्म में वे बताने की कोशिश कर रहे हैं कि एक तरफ तो हम कह रहे हैं कि महिलाओं को आजादी चाहिये, उन्हें बराबर का दर्जा देना चाहिये, लेकिन क्या हम नहीं जानते कि आज महिलाएं अपनी आजादी से भी आगे निकल चुकी हैं।

फिल्म की कहानी में दिखाया गया है कि फिल्म में मर्दों वाली तमाम हरकतें महिलाएं कर रही हैं। कॉलेज में लड़कियां लड़कों को छेड़ रही हैं, तो मोहल्लों और सड़कों पर जवान लड़कों का लड़कियों ने जीना दूभर किया हुआ है। फिल्म में महिलाओं का एक ऐसा गिरोह है जो राहजनी करता है, बैंक लूटता है, एटीएम तोड़ता है।

यहां तक कि अगर किसी लड़के को शादी करनी है तो वो नहीं बल्कि लड़की उसे उसके घर देखने आती है और उसका पिता अपने बेटे की लड़की वालों के सामने बढ़ाइया ठोकता दिखाई देता है। बाद में प्रकृति के खिलाफ इस चलन के तहत अचानक दो लड़कियों को दो लड़कों से प्यार हो जाता है और बाद में वे उन्हें उन्हें असली आईना दिखाने में कामयाब होते हैं।

फिल्म के बारे में निर्देशक असगर खान का कहना है कि इस कहानी का आइडिया मुझे उन दिनों आया, जब दिल्ली में मेरे पड़ोस की एक लड़की हमेशा मुझे प्रपोज करती रहती थी, बाद में कुछ और लड़कियां भी उसका साथ देने लगीं। पहले तो मैंने इन बातों पर ध्यान नहीं दिया। उन सभी ने मुझे काफी परेशान किया। फिर भी मैंने मामले को टालने की कोशिश की। बस वहीं से मुझे लगा कि महिलाएं जरूरत से ज्यादा आजाद हो चुकी हैं, इस वाकये को बाद में मैंने कहानी में ढालना शुरू कर दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इतनी भी टेंशन मत ले यार