DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एलोपैथी के साथ होम्योपैथी भी पढ़ाई जाएगी

नए प्रस्तावित मेडिकल के बीआरसीएच पाठय़क्रम में सरकार एलोपैथी और होम्योपैथी विशेषज्ञों की कॉकटेल तैयार करनी वाली है। इसकी मदद से जरूरत पड़ने पर एक ही डॉक्टर मरीज का दोनों विधाओं से इलाज कर सकेगा। होम्योपैथी के चार दिवसीय अंतरराष्ट्रीय सेमिनार में विशेषज्ञों ने होम्योपैथी को बढ़ावा देने के विभिन्न पहलूओं पर चर्चा की।

एचआईवी एड्स, टीबी, ल्यूकिमिया, हेपेटाइटिस और ऐसी कई बीमारियों का इलाज होम्योपैथी से किया जा सकता है। सेमिनार के उद्घाटन अवसर पर उपस्थित केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि एलोपैथी में पोस्ट सजिर्कल मरीजों को होम्योपैथी दवाएं दी जा सकती हैं। इस बावत ब्रिटिश होम्योपैथी जर्नल में कई शोध प्रकाशित हो चुके हैं। यही कारण है कि बैचरल ऑफ रूरल हेल्थ के लिए तैयार किए गए पाठय़क्रम में एलोपैथी के साथ होम्योपैथी को भी शामिल किया गया है। सेंट्रल काउंसिल ऑफ होम्योपैथी के डॉ. रामजी सिंह ने बताया कि  निश्चित रूप से एलोपैथी के साथ होम्योपैथी दवा दी जा सकती है, इसके कई पहलूओं पर विचार कर इसे बीआरसीएच में शामिल करने का एजेंडा तैयार किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एलोपैथी के साथ होम्योपैथी भी पढ़ाई जाएगी