DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दूरदृष्टि कितनी?

सड़कें चौड़ी हुईं, फ्लाइओवर बन गए लेकिन रफ्तार बढ़ने की जगह घट गई। यह कहने से नहीं चलेगा कि गाड़ियां बढ़ती जाएंगी, तो यह होगा ही। देश में विकास को पहिये लग रहे हैं, तो इनकी संख्या बढ़ना लाजमी है। ट्रैफिक में रुकावट न आए, इसकी व्यवस्था प्रशासन की जिम्मेवारी है। हुआ यह कि कनजेशन वाली जगहों पर फ्लाइओवर तो बना दिए, पर यह नहीं सोचा कि गाड़ियां जब उतरेंगी, तो रफ्तार कम करने की नौबत न आए। फ्लाइओवर के निचले हिस्सों में आकर वाहन अक्सर फंस जाते हैं। फिर वहां वही चिल्लपों। ड्राइवरों के साथ-साथ ट्रैफिक वाले भी पसीने-पसीने। इससे फ्लाइओवर बनाने का उद्देश्य ही विफल हो रहा है। यह योजना बनाने वाले की विफलता नहीं?

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दूरदृष्टि कितनी?