DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सामाजिक क्रांति के कारण लैंगिक विषमता समाप्त हो रही है

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि पंचायती राज संस्थाओं में सभी पदों पर महिलाओं को 50 फीसदी आरक्षण, छात्राओं के लिए साइकिल और पोशाक योजना के कारण राज्य में सामाजिक क्रांति होने से लैंगिक विषमता दूर हो रही है।
   
नीतीश कुमार ने साउथ एशियन वीमेन इन मीडिया (स्वम) के पूर्वी क्षेत्र की महिला पत्रकारों की एक कार्यशाला में कहा,  पंचायती राज संस्थाओं में सभी पदों पर महिलाओं को 50 फीसदी आरक्षण, छात्राओं के लिए साइकिल तथा पोशाक योजना के कारण राज्य में सामाजिक क्रांति हो रही है। इसके कारण राज्य में लैंगिक विषमता दूर हो रही है। पत्रकारों को इस विषय पर विश्लेषण करना चाहिए क्योंकि बीमाए राज्य के श्रेणी में शामिल बिहार की छवि अब पिछड़नेपन के लिए नहीं बल्कि प्रगति के लिए बन रही है।
   
उन्होंने कहा कि 2006 के पंचायती चुनावों में महिला आरक्षण के बाद परिणाम है कि अब महिला मुखिया अपनी जिम्मेदारियों को समक्ष रहीं है, अपने क्षेत्र को समक्ष रहीं है और समस्याओं के प्रति सजग है। बालिकाओं के लिए 2007 में शुरू की गयी साइकिल योजना के कारण उच्चतर कक्षाओं में छात्राओं का दाखिला तेजी से बढ़ा है। लोगों की मानसिकता भी बदली है।
   
नीतीश ने कहा कि पंचायती राज संस्थाओं में सभी पदों पर महिलाओं को सामान्य कोटे और आरक्षित वर्ग में एक समान आरक्षण दिया गया है। उन्होंने कहा कि पत्रकारिता महिलाओं के लिए ही नहीं बल्कि पुरुषों लिए भी चुनौती भरा पेशा है। बदलते दौर में पत्रकारों की नौकरी सुरक्षित नहीं है फिर भी महिला पत्रकार इन चुनौतियों से निपट रही हैं। मुख्यमंत्री ने कहा, मुझे आशा है कि पत्रकारिता का दौर बदलेगा। पहले की तरह पत्रकारों को भी सुरक्षा मिलेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सामाजिक क्रांति के कारण लैंगिक विषमता समाप्त हो रही है