DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कृषि की असफलता से कौन सा क्षेत्र होगा सफल: आईसीएआर

देश की शीर्ष कृषि शोध संस्था आईसीएआर के प्रमुख ने कहा है कि कृषि में सफलता हाई-टेक सॉफ्टवेयर, आईटी, तथा जैव प्रौद्योगिकी क्षेत्र में कामयाबी का आधार है। उन्होंने आगाह किया कि 50 साल बाद दुनिया में कोई भी चावल और गेहूं नहीं देगा।
   
भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) के महानिदेशक एस अयप्पन ने एक कार्यक्रम में कहा कि आज से 50 साल बाद हम हथियार तथा विमान खरीद सकते हैं, चावल और गेहूं नहीं। दुनिया में कोई भी चावल और गेहूं नहीं देगा।
  
उन्होंने कहा, अगर कृषि सफल होती है तो कौन सा क्षेत्र विफल हो सकता है अगर कृषि विफल होती है तो कौन सा क्षेत्र कामयाब होगा साफ्टवेयर, आईटी, बीटी तथा हर चीज तभी सफल है जब कृषि सफल है।
    
उन्होंने कहा कि 12वीं योजना (2012-17) में कृषि विज्ञान केंद्रों को कषि विश्वविद्यालय तथा सार्वजनिक एवं निजी संस्थानों से जोड़ने का प्रस्ताव है। अयप्पन ने कहा कि इसी प्रकार प्रस्तावित पहले किसान पहल के तहत छात्र अपना 25 प्रतिशत समय कृषि विश्वविद्यालयों तथा कृषि संस्थानों में व्यतीत करेंगे। खाद्य प्रसंस्करण उद्योग के सचिव राकेश काकेर ने कहा कि 12वीं योजना में केंद्र ने खादय प्रसंस्करण के क्षेत्र में राज्यों में ज्यादा जिममेदारी देने का प्रस्ताव किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कृषि की असफलता से कौन सा क्षेत्र होगा सफल: आईसीएआर