DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उद्योगपतियों को सरकार देगी न्योता

पटना। हिन्दुस्तान ब्यूरो। कृषि यंत्रों के अंतराष्ट्रीय मेले में पूरे तामझाम के साथ भाग लेगी राज्य सरकार। इसी बहाने सरकार देश के बड़े यंत्र निर्माताओं को राज्य में उद्योग लगाने का न्योता देगी। किसानों और राज्य के यंत्र निर्माताओं को भी मेले में भेजा जाएगा। किसान आधुनिकतम यंत्रों की जानकारी लेंगे तो उद्यमी निर्माण की नई तकनीक सीखेंगे।

मेले का आयोजन 8 से 10 दिसम्बर तक दिल्ली में होगा। खेतीबारी के बदलते स्वरूप के कारण राज्य में कृषि यंत्रों की मांग कई गुणा बढ़ गई है। वर्तमान में इसका सालाना करोबार लगभग आठ सौ करोड़ का है। दो सौ करोड़ रुपये तो सरकार हर वर्ष किसानों द्वारा खरीदे गये यंत्रों के अनुदान के रूप में कंपनियों को भुगतान करती है।

राज्य की कंपनियां इतने बड़े बाजार की मांग पूरा नहीं कर पाती हैं। लिहाजा हर वर्ष कुछ न कुछ राशि बच जाती है। किसानों की पसंद भी इसका एक कारण है। वह जिस कंपनी का यंत्र खरीदनना चाहते हैं वह राज्य में उतनी आपूर्ति नहीं कर पाती। बाजार की इस विशालता की चर्चा कर राज्य के अधिकारी यंत्र निर्माताओं को उद्योग लगाने के लिए आकर्षितकरेंगे।

इसके लिए उन्हें राज्य सरकार द्वारा बनाई गई नई निवेश नीति में कंपनियों को दी जा रही छूट की जानकारी भी दी जाएगी। मेले में राज्य सरकार की ओर से एक स्टाल भी लगाया जाएगा। पांच सौ किसान और छह यंत्र निर्माताओं को वहां भेजा जाएगा। किसानों के चयन में हर जिले की भागीदारी होगी।

कृषि निदेशक अरविन्दर सिंह और बामेति के निदेशक डा. आरके सोहाने के साथ अधिकारियों की बड़ी टोली सरकार का प्रतिनिधित्व करेगी। नई तकनीक की पहचान और राज्य में जरूरत के हिसाब से यंत्र निर्माताओं के चयन के लिए राजेन्द्र कृषि विश्वविद्यालय यंत्रिकी विभाग के एक वैज्ञानिक को भी भेजने का प्रस्ताव है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:उद्योगपतियों को सरकार देगी न्योता