DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

करहल में परिषदीय शिक्षा का बुरा हाल

 मैनपुरी, हिन्दुस्तान संवाद। करहल विकास खंड क्षेत्र के परिषदीय विद्यालयों में शिक्षा के साथ हो रहे खिलवाड़ से लोग स्तब्ध हैं। एक के बाद एक हो रहे खुलासे लोगों को हैरान कर रहे हैं। एक नाम के शिक्षक को दो-दो नामों से वेतन देने का मामला हो या फिर एक शिक्षक को बिना वेतन बढ़ाेत्तरी के पांच हजार रुपये का अतिरिक्त वेतन देने की बात हो। शिक्षा विभाग के अधिकारी जमकर मनमानी कर रहे हैं। गुरुवार को एक और मामले का खुलासा हुआ है। शिक्षक 10 माह से बिस्तर पर है, लेकिन वह अभिलेखों में नौकरी ही नहीं कर रहा बल्कि मासिक वेतन भी उठा रहा है। यह मामला भी करहल विकास खंड से जुड़ा है। करहल क्षेत्र के ग्राम सिमरऊ स्थित प्राथमिक पाठशाला में तैनात शिक्षक खान बहादुर को 10 माह पूर्व पैरालाइसिस हो गया।

बीमारी के चलते वे पूरी तरह से बिस्तर पर पहुंच गए, लेकिन शिक्षक कागजों में हर रोज स्कूल जाता है और उसकी हाजिरी भी लग रही है। आरोप है कि करहल की एबीएसए सुषमा सेंगर ने हाजिरी रजिस्टर अपने पास रखकर बीमार शिक्षक को अभिलेखों में हर रोज उपस्थित दर्शा रही हैं। इतना ही नहीं इसी पाठशाला में तैनात शिक्षिका सुचेत्रा मानिकपुर पाठशाला में तैनात शिक्षक योगेन्द्र को भी बिना नौकरी किए हाजिरी रजिस्टर में रोज उपस्थित दिखाया जा रहा है।

मामले की पोल उस समय खुली जब हाजिरी रजिस्टर में शिक्षिका सुचेत्रा व योगेन्द्र बीते 16 व 23 अक्टूबर को रविवार के दिन भी उपस्थित दर्शा दिए गए। मामले की शिकायत करने वाली सिमरऊ में तैनात शिक्षिका राविया सुल्तान ने बीएसए से शिकायत की है कि एबीएसए उनका मानसिक शोषण कर रही हैं। वे विद्यालय का हाजिरी रजिस्टर अपने पास रखती हैं और उन्हें हाजिरी रजिस्टर पर उपस्थित हस्ताक्षर नहीं करने दिए जा रहे। शिक्षिका का आरोप है उसे निलंबित करने की धमकी दी जा रही है। बीएसए ने उपरोक्त प्रकरणों की जांच के आदेश दिए हैं।

राजनीतिक हलकों में धमककरहल। बडेम् अचरज का विषय है करहल की एबीएसए सुषमा सेंगर की शिकायतों की संख्या बढ़ने के बाद भी विभाग और जिले के आलाधिकारी कार्रवाई नहीं कर पा रहे हैं। सूत्रों की मानें तो सुषमा सेंगर पर स्थानीय विधायक और प्रदेश सरकार के राज्यमंत्री का बरदहस्त है। राज्यमंत्री के दबाव के चलते ही एबीएसए पर विभागीय आलाधिकारी कार्रवाई करने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं। यह बात अलग है एबीएसए से करहल क्षेत्र के शिक्षक पीडिम्त हैं। शिक्षा विभाग की बदनामी हो रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:करहल में परिषदीय शिक्षा का बुरा हाल