DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मछली खाएं, अल्जाइमर दूर भगाएं

जिन लोगों के खान-पान में मछली शामिल होती है, उनका मानसिक स्वास्थ्य अच्छा रहता है और साथ ही वे अल्जाइमर जैसी खतरनाक बीमारी के खतरे से भी दूर रहते हैं। एक अध्ययन में यह खुलासा हुआ है।

पिट्सबर्ग विश्वविद्यालय के मेडीकल सेंटर के सायरस राजी कहते हैं कि यह ऐसा पहला अध्ययन है जिसमें मछली खाने, मस्तिष्क की संरचना और अल्जाइमर के खतरे के बीच सम्बंध स्थापित किया गया है। उन्होंने कहा कि परिणाम बताते हैं कि जो लोग प्रति सप्ताह कम से कम एक बार सिकी हुई या उबली हुई मछली खाते हैं उनके मस्तिष्क की संरचना में ग्रे मैटर क्षेत्र संरक्षित रहता है। अल्जाइमर बीमारी में मस्तिष्क के इस हिस्से की खास भूमिका होती है।

अल्जाइमर बीमारी का कोई इलाज नहीं है। यह बीमारी धीरे-धीरे बढ़ती जाती है। इससे व्यक्ति की याददाश्त और बोध क्षमता धीरे-धीरे कम होती जाती है। पिट्सबर्ग से जारी वक्तव्य के मुताबिक 51 लाख अमेरिकियों को अल्जाइमर बीमारी हो सकती है। इस अध्ययन के लिए कार्डियोवास्कुलर हेल्थ स्टडी के सामान्य बोध क्षमता वाले 260 लोगों का परीक्षण किया गया।

तली-भुनी मछली खाने वाले लोगों के मस्तिष्क के ग्रे मैटर वाले हिस्से में कोई बदलाव नहीं देखा गया। इन लोगों के दिमाग में ग्रे मैटर नहीं बढ़ा। ग्रे मैटर बोध क्षमता को कम होने से रोकता है। रेडियोलॉजिकल सोसायटी ऑफ नॉर्थ अमेरिका (आरएसएनए) की वार्षिक बैठक में बुधवार को इस अध्ययन के परिणाम पेश किए गए।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मछली खाएं, अल्जाइमर दूर भगाएं