DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खुदरा कारोबार में बहुराष्ट्रीय कंपनियों को प्रवेश नहीं : नीतीश

पटना (हि.ब्यू.)। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने खुदरा कारोबार की बहुराष्ट्रीय कंपनियों को बिहार का बाजार सौंपने से साफ मना कर दिया है। गुरुवार को अरवल की सेवा यात्राा से लौटने के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि खुदरा कारोबार में एफडीआई से बेरोजगारी बढ़ेगी।

इसलिए बिहार में इसे लागू करने का सवाल ही नहीं उठता। वैसे देश में भी इसकी जरूरत नहीं है। रिटेल क्षेत्र में एफडीआई के खिलाफ पूरे देश में वातावरण बन रहा है। तमाम राजनीतिक दल और संगठन अपने-अपने तरीके से इसका विरोध कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि केन्द्र सरकार कैसे खुदरा कारोबार में एफडीआई को रोजगार बढ़ाने वाला निर्णय मान रही है। हमारी स्पष्ट राय है कि इससे बेरोजगारी बढ़ेगी। रिटेल क्षेत्र में एफडीआई को मंजूरी से बाहर की कंपनियां हमारे बाजार पर कब्जा कर लेंगी।

स्थानीय रिटेल बाजार उजड़ जायेगा। किसान और व्यवसायी बर्बाद हो जायेंगे। उन्होंने कहा कि केन्द्र को यह बताना चाहिए कि सड़क किनारे चार-पांच सौ रुपये की पूंजी लगाकर कारोबार करने वालों को एफडीआई से कैसे फायदा होगा? और, क्या ऐसे लोगों के रोजगार की रक्षा की जा सकेगी? हमारे लिए विकास का मॉडल वहीं अच्छा है जो आम आदमी के हितों की रक्षा कर सके। अगर यह कहा जायेगा कि मल्टीनेशनल के लिए दरवाजा खोलिए तो हमारा जवाब ‘ना’ है। सेवा यात्रा के संबंध में मुख्यमंत्री ने कहा कि जनता के बीच जाने का मकसद कार्यप्रणाली को और बेहतर बनाकर जनसमस्याओं का तेजी से समाधान करना है। इस लिहाज से अरवल में सेवा यात्राा काफी फायदेमंद रही।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:खुदरा कारोबार में बहुराष्ट्रीय कंपनियों को प्रवेश नहीं : नीतीश