DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नक्सलियों से भिड़ने को सीआईएटी में तैयार हो रहे जवान

पटना। हिन्दुस्तान ब्यूरो। नक्सलियों से गुरिल्ला युद्ध में दो-दो हाथ के लिए राज्य पुलिस अपने जवानों को स्पेशल ट्रेनिंग दे रही है। इसके लिए डुमरांव, बोधगया और डेहरी ऑनसोन में तीन काउंटर इंसरजेंसी और एंटी टेररिज्म(सीआईएटी) स्कूल स्थापित किए गए हैं। इन ट्रेनिंग सेंटरों में अभी तक 1917 पुलिसकर्मियों को ट्रेनिंग दी गई है। इन्हें नक्सल प्रभावित इलाकों में केन्द्रीय अर्धसैनिक बलों के साथ खास ऑपरेशन में भी लगाया जा रहा है।

लंबे समय से बिहार में ऐसे स्कूल की जरूरत महसूस की जा रही थी, जहां जवानों को गुरिल्ला युद्ध की ट्रेनिंग के साथ-साथ खुफिया सूचनाएं एकत्र करने के तरीके बताए जाएं। हाल के दिनों तक बिहार के जवानों को ट्रेनिंग के लिए हैदराबाद स्थित ग्रे हाउंड या फिर केन्द्रीय अर्धसैनिक बलों व सेना के ट्रेनिंग सेंटरों पर भेजा जाता था।

लेकिन केन्द्र सरकार की पहल पर खोले गए इन तीन स्कूलों में अब बिहार में ही कमांडो तैयार किए जा रहे हैं। खासबात यह है कि नक्सल समस्या के अलावा आतंकी गतिविधियों से निपटने की भी ट्रेनिंग जवानों को दी जा रही है।

जवानों को इस तरह की ट्रेनिंग दी जा रही है कि आवश्यकता पड़ने पर उन्हें हेलीकॉप्टर के जरिए भी प्रभावित इलाकों में उतारा जा सके। इसी क्रम में नक्सल समस्याओं से निपटने के लिए गृह मंत्रालय ने बिहार को एक हेलीकॉप्टर भी उपलब्ध कराने को कहा है। नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन में या फिर रेस्क्यू के लिए इस हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल होगा। राज्य पुलिस मुख्यालय के अनुसार दिसंबर के पहले पखवारे में किराए का यह हेलीकॉप्टर बिहार पुलिस को उपलब्ध हो जाएगा। अधिकारियों के अनुसार हेलीकॉप्टर का बेस नक्सल प्रभावित इलाकों में ही होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नक्सलियों से भिड़ने को सीआईएटी में तैयार हो रहे जवान