DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दीक्षांत समारोह-तीन-- सछास नेताओं को लाठियां से खदेड़ा

-फीस वृद्धि को लेकर कुलपति के खिलाफ कर रहे थे प्रदर्शन-दस कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर निजी मुचलकों पर छोड़ाबरेली। कार्यालय संवाददातासमाजवादी छात्र सभा के नेताओं ने फीस वृद्धि को लेकर कुलपति के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। सीओ सिटी बसंत लाल की अगुवाई में पीएसी और पुलिस ने उन्हें रोकने की कोशिश की, लेकिन कार्यकर्ता उग्र हो रहे थे। पुलिस ने लाठीचार्ज करते हुए उन्हें खदेड़ दिया। एसपी सिटी ने दस छात्रों को गिरफ्तार करा लिया। उन्हें शाम को निजी मुचलकों पर छोड़ा गया। दीक्षांत समारोह में आए राज्यपाल के यूनिवर्सिटी से वापस जाने के आधा घंटा पहले समाजवादी छात्र सभा के जिलाध्यक्ष गौरव सक्सेना की अगुवाई में दर्जनों कार्यकर्ता यूनिवर्सिटी गेट पर पहुंच गए। छात्रों ने ‘फीस वृद्धि वापस लो’, ‘तानाशाही नहीं चलेगी’, ‘वीसी गौतम वापस जाओ’ आदि नारे लगाते हुए आगे बढ़ने की कोशिश की। पुलिस ने रोक लिया तो वहीं रोड पर बैठ गए। रोड जाम हो गया। इतने में सीओ सिटी बसंत लाल पहुंच गए। उन्होंने छात्रों को समझाने की कोशिश की, लेकिन छात्र नहीं मान रहे थे। फिर पुलिस ने छात्रों पर लाठियां भांजना शुरू कर दीं। कई छात्र भगदड़ की वजह से खाई में गिर गए। खाई में गिरे छात्रों को पुलिस ने लिटा-लिटाकर मारा। बाद में एसपी सिटी अतुल सक्सेना पहुंच गए। उन्होंने दस छात्रों को गिरफ्तार करा लिया। उन्हें पुलिस लाइन में ले जाया गया। करीब तीन घंटे बाद शाम पांच बजे निजी मुचलके पर उन्हें छोड़ा गया। सछास के जिलाध्यक्ष गौरव सक्सेना ने कहा कि उन्होंने एक दिन पहले विश्वविद्यालय प्रशासन से राज्यपाल से मिलने की अनुमति मांगी थी। लेकिन प्रशासन ने साफ इंकार कर दिया था। पुलिस का व्यवहार भी छात्रों के प्रति काफी खराब रहा। छात्र नेता गांधीवादी तरीके से गरीब छात्रों की समस्याएं राज्यपाल के सामने रखना चाहते थे, लेकिन पुलिस ने छात्रों पर लाठियां बरसाईं। गौरव सक्सेना के साथ अशोक यादव, महानगर अध्यक्ष विशाल यादव, सुशील यादव, दिनेश गंगवार, राघव गुप्ता, धीरेंद्र सिंह, मुईन अहमद, विजय श्रीवास्तव, सुशील कुमार, अंकित, अभिनव, शुएब, अरविंद पटेल, आलोक यादव, अनिल यादव समेत दर्जनों छात्र थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दीक्षांत समारोह-तीन-- सछास नेताओं को लाठियां से खदेड़ा