DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कर्ज में डूबा झारखंड बिजली बोर्ड

रांची ’ रवि। झारखंड राज्य विद्युत बोर्ड कर्ज में डूब गया है। कर्ज से बाहर निकलना बिजली बोर्ड के लिए चुनौती बन गई है। टीवीएनएल, डीवीसी, केंद्र और राज्य सरकार, पेंडिंग केस, सर्टिफिकेट केस और सीसीएल के पास बिजली बोर्ड का बकाया बढ़कर 6134 करोड़ रुपए हो गया है। बिजली बोर्ड हर माह 220 करोड़ रुपए की बिजली खरीदता है।

जबकि 200 करोड़ रुपए ही राजस्व की वसूली होती है। इस हिसाब से हर माह 20 करोड़ रुपए का नुकसान हो रहा है। वहीं राज्यभर में बिजली की खपत भी बढ़ी है। प्रतिमाह 65 करोड़ यूनिट बिजली की खपत होती है। बकाए की राशि बढ़ने का कारण यह भी है कि जेएसइबी अधिक रेट पर बिजली खरीदता है और इसे कम दर पर बेचता है। एक साल में खरीदी जाती है 2640 करोड़ की बिजलीपिछले 11 साल में नया पावर प्लांट नहीं लगने के कारण बिजली बोर्ड को दूसरी एजेंसियों से ही बिजली खरीदनी पड़ रही है।

फिलहाल एनटीपीसी, डीवीसी, टीवीएनएल, पावर ट्रेडिंग कॉरपोरेशन, एनएचपीसी और अन्य राज्य के बिजली बोर्ड से बिजली खरीदी जा रही है। पिछले 11 साल में 17 हजार करोड़ रुपए की बिजली खरीदी जा चुकी है। सालाना 2640 करोड़ रुपए की बिजली खरीदी जाती है।सेंट्रल सेक्टर के भरोसे टिकाबोर्ड अब सेंट्रल सेक्टर के भरोसे टिक गया है। पीटीपीएस और सिकिदिरी से सिर्फ 170 मेगावाट बिजली ही मिल रही है। वहीं सेंट्रल सेक्टर से हर दिन 370 मेगावाट बिजली ली जा रही है। टीवीएनएल 210 मेगावाट बिजली की आपूर्ति कर रहा है। टीवीएनएल में कोयला संकट बरकराररांची। टीवीएनएल में कोयला संकट बरकरार है।

दूसरे दिन भी टीवीएनएल की दूसरी यूनिट से बिजली उत्पादन ठप रहा। दो दिन में 100 लाख यूनिट बिजली का उत्पादन नहीं हो सका। बुधवार को राज्यभर में 740 मेगावाट बिजली की आपूर्ति की गई, जो मांग के हिसाब से 110 मेगावाट कम रही।

इस कारण गोड्डा, दुमका, साहेबगंज, चतरा, लातेहार, हजारीबाग, गढ़वा, गिरिडीह सहित अन्य जिलों में लोडशेडिंग की गई। राजधानी के भी कई क्षेत्रों में कुछ घंटे के लिए बिजली आपूर्ति बाधित रही। बजरा, ललगुटवा, रातू चट्टी, तुपुदाना, हटिया, इटकी रोड, कांके, पिठोरिया में बिजली बाधित रही। बुधवार को टीवीएनएल ने 210 मेगावाट बिजली की आपूर्ति की। सिकिदिरी 90, पीटीपीएस 80 और सेंट्रल सेक्टर से 370 मेगावाट बिजली मिली। ’ तेनुघाट थर्मल पावर स्टेशन 2000 ’ दामोदर घाटी निगम 2500 ’ केंद्र और राज्य सरकार 1000’ पेंडिंग केस 190 ’ सर्टिफिकेट केस 219 ’ सीसीएल 225’ डीवीसी- 3.74 रुपए प्रति यूनिट’ टीवीएनएल-2.39 पैसे प्रति यूनिट’ सेंट्रल सेक्टर(हाइडल)-1.90 रुपए प्रति यूनिट, ’ सेंट्रल सेक्टर(थर्मल)-2.67 रुपए प्रति यूनिटएकमुश्त

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कर्ज में डूबा झारखंड बिजली बोर्ड