DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरकार कराएगी सीबीआइ जांच

रांची विशेष संवाददाताराज्य सरकार पाकुड़ में सिस्टर वालसा की हत्या के मामले को सीबीआई को सुपुर्द करेगी। इसकी तैयारी शुरू कर दी गई है। पाकुड़ के एसपी और डीसी से इस मामले पर पूरी रिपोर्ट मांगी गई है। जिला प्रशासन से पूछा गया है कि सिस्टर वालसा हत्याकांड में कितने अभियुक्त हैं, कितने गिरफ्तार हुए और कितने को पकड़ा जाना बाकी है। जिला प्रशासन से यह भी पूछा गया है कि सिस्टर वालसा की हत्या किन कारणों से हुई है। रिपोर्ट मिलते ही इस मामले को सीबीआई को सुपुर्द किए जाने की तैयारी की गई है।नक्सलियों ने ली जिम्मेवारीनक्सलियों ने सिस्टर वालसा जॉन की हत्या की जिम्मेवारी ले ली है। नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के प्रवक्ता सोनोत ने यह जानकारी पुलिस की विशेष शाखा को दी है । इस खबर की पुष्टि करते हुए एसपी अमरनाथ खन्ना ने बताया कि नक्सली संगठन भाकपा माओवादी ने सिस्टर वालसा की हत्या के अलावा पेनम के कार्यकारी निदेशक दीनानाथ शरण , सहायक प्रबंधक शीतल प्रसाद की हत्या और पिछले दिनों डंपर व जेसीबी मशीन जलाए जाने की जिम्मेवारी भी ली है । उन्हें यह जानकारी विशेष शाखा के एसपी द्वारा मिली है। भाकपा माओवादी के प्रवक्ता द्वारा पुलिस को प्रेषित पत्र में कहा गया है कि 15 नवम्बर को वालसा का सफाया नक्सलियों ने ही किया है क्योंकि वालसा स्थानीय राजनीति करती थी और पार्टी के अनेक कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कराने का काम करती थी। आम जनता को भी वालसा भड़का रही थीं । पत्र में 2 नवम्बर को बारगो में दो जेसीबी मशीनों और भारत बंद के दौरान आठ डंपर को जलाने की भी बात स्वीकार की गई है। 12 अक्टूबर को पेनम के कार्यकारी निदेशक दीनानाथ शरण की हत्या की जिम्मेवारी भी उक्त नक्सली संगठन ने ली है । नक्सलियों द्वारा अमड़ापाड़ा थाना क्षेत्र में गत चार वर्षों के दौरान हुईं पांच घटनाओं की जिम्मेवारी लेने के बाद पाकुड़ एसपी ने पुलिस अधिकारियों को उग्रवादी गतिविधियों पर कड़ी निगरानी रखने का निर्देश दिया है । केंद्र नक्सलियों से वार्ता को तैयार

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सरकार कराएगी सीबीआइ जांच