DA Image
23 अक्तूबर, 2020|7:58|IST

अगली स्टोरी

चालू वित्त वर्ष में आठ सहकारी बैंक दिवालिया

चालू वित्त वर्ष के पहले चार महीनों में आठ सहकारी बैंक दिवालिया हुए जिससे ऋण बीमा कंपनियों को जमाकर्ताओं को करीब 143 करोड़ रुपए का भुगतान करना पड़ा।

आठ सहकारी बैंक अपने ग्रहकों को जमा का पुनर्भुगतान करने में असफल रहे। इन बैंकों में महाराष्ट्र के चार, कर्नाटक के तीन और गुजरात का एक बैंक शामिल हैं। पिछले वित्त वर्ष के दौरान देश भर में 26 सहकारी बैंकों ने अपना परिचालन बंद किया था।

भारतीय रिजर्व बैंक की पूर्व स्वामित्व वाली सहयोगी कंपनी जमा बीमा एवं ऋण गारंटी निगम (डीआईसीजीसी) के तहत बीमा मानदंडों के मुताबिक यदि कोई बैंक दिवालिया हो जाता है तो जमाकर्ता को अधिकतम एक लाख रुपए का भुगतान किया जाता है।

डीआईसीजीसी के मुताबिक जुलाई 2011-12 तक रिजर्व बैंक की ऋण बीमा शाखा ने आठ दिवालिया सहकारी बैको के जमाकर्ताओं को करीब 143.5 करोड़ रुपए का भुगतान किया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:चालू वित्त वर्ष में आठ सहकारी बैंक दिवालिया