DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एनजीओ के निदेशक प्रमुख, अध्यक्ष समेत चार गिरफ्तार

पटना वरीय संवाददाता। नौकरी के नाम पर 150 करोड़ की ठगी करने वाले ‘मुस्कान’ की तर्ज पर 15 मार्च को एक अन्य एनजीओ मरफी सेवा संस्थान ने ‘हरित परियोजना’ के लिए चार कैटेगरी के 9036 पदों पर बहाली का विज्ञापन दिया। पंचायत मित्र (वेतनमान 4 से 6 हजार रुपये प्रतिमाह), प्रखंड पर्यवेक्षक (6 से 8 हजार), जिला पदाधिकारी (8 से 10 हजार) और राज्य समन्वयक (10 से 15 हजार रुपये) के पदों पर बहाली के लिए 100 रुपये के पोस्टल ऑर्डर के साथ आवेदन करने को कहा गया था।

10 हजार से अधिक आवेदन आये और 29 मई को इंटरव्यू की तिथि मुकर्रर थी। पर उसके पहले ही आवेदकों से नौकरी की पक्की गारंटी पाने के लिए 50 हजार रुपये घूस मांगा जाने लगा। संदेह होते ही एक आवेदक वीरेन्द्र प्रसाद निराला ने सोमवार की शाम पाटलिपुत्र थाने में शिकायत की। फिर पुलिस ने एनजीओ के निदेशक प्रमुख मोहन मुरारी, अध्यक्ष दीपक कुमार, रंजन कुमार और शकीर्उरहमान को एलसीटी घाट इलाके में एनजीओ के कार्यालय से गिरफ्तार कर करोड़ों रुपये की ठगी करके चंपत होने की इन शातिरों की योजना विफल कर दी।

सभी आरोपित सीवान जिले के मूल निवासी हैं और यहां राजीवनगर व अन्य इलाकों में रहते हैं। इसका खुलासा करते हुए एसएसपी आलोक कुमार ने बताया कि गिरफ्तार जालसाजों द्वारा बहाली की आड़ में लाखों की ठगी की जा चुकी थी। डीएसपी (विधि-व्यवस्था) ललित मोहन शर्मा, पाटलिपुत्र थानाध्यक्ष गदाधरनाथ मिश्र, एसआई निर्मल कुमार व अन्य अफसरों ने छापेमारी के दौरान बड़ी संख्या में पोस्टल ऑर्डर, आवेदन, कॉल लेटर, इंटरव्यू पेपर आदि जब्त किये हैं।

डीएसपी के मुताबिक तहकीकात में पता चला है कि इसी वर्ष 8 मार्च को इस एनजीओ का रजिस्ट्रेशन हुआ है। जांच में 9036 पदों पर बहाली, हरित परियोजना, कर्मियों के वेतन व अन्य स्रेत आदि के बारे में उनके पास कोई कागजात या योजना तक नहीं है। एनजीओ की नौकरी के आवेदन में पोस्टल ऑर्डर मंगवाना अवैध है। इसके बावजूद लोगों को झांसा देने के लिए शातिरों ने हर हथकंडे को आजमाया पर हजारों बेरोजगारों को ठगने की साजिश समय रहते विफल हो गई।

एसआईटी करेगी तफ्तीश नौकरी के नाम पर ठगी करने वाले एनजीओ मरफी सेवा संस्थान की करतूतों की तफ्तीश के लिए एसएसपी ने डीएसपी (विधि-व्यवस्था) के नेतृत्व में विशेष जांच टीम (एसआईटी) गठितकर दी है ताकि पूरी असलियत सामने आ सके। आशंका है कि जालसाजों ने पहले भी कई तरीके से मोटी रकम की जालसाजी की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एनजीओ के निदेशक प्रमुख, अध्यक्ष समेत चार गिरफ्तार