DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गोदाम मैनेजर को गोली लगी

फरीदाबाद कार्यालय संवाददाता। शहर के एनआईटी क्षेत्र स्थित एक गोदाम के पास किसी ने गोली चला दी। इससे वहां मौजूद गोदाम मैनेजर घायल हो गए। उन्हें इलाज के लिए शहर के निजी अस्पताल ले जाया गया, जहां उनकी हालत खतरे से बाहर है। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस भी पहुंच गई।

मौके से पिस्टल का एक जीवित कारतूस बरामद किया गया है। अब तक यह पता नहीं चल पाया है कि गोली किसने चलाई और वहां कारतूस कहां से आया। पुलिस टीम बयान दर्जकर जांच शुरू कर दी है। एसजीएम नगर थाना क्षेत्र के एनएच-3 के रविंदर उर्फ टिंकू स्क्रैप कारोबारी हैं। इन्होंने एनएच-3 जी ब्लॉक के मकान नंबर 176 में गोदाम व दफ्तर बना रखा है।

वहां एसजीएम नगर के जोरावर सिंह व किशन मैनेजर के पद पर तैनात हैं। सोमवार को चार बजे किशन किसी काम से बाहर गए थे, जबकि जोरावर गोदाम में थे। वह वहीं एक बिस्तर पर लेटे थे। बताया जाता है कि करीब सवा चार बजे अचानक गोदाम के गेट के पास गोली चलने की आवाज आई। पहले तो उन्होंने ध्यान नहीं दिया। गोली चलने के दा मिनट बाद वह गेट के बाहर आए।

आसपास कोई नजर नहीं आया। गोदाम के सामने रहने वाले रंजीत सिंह भी आ गए। वह जोरावर की शर्ट में छेद देख दंग रह गए। शर्ट उठाकर देखा तो पेट से खून बह रहा था। एक छर्रा उनकी पेट में धंसा था, लेकिन यह उन्हें पता नहीं चल सका था। गेट के पास ही एक पिस्तौल की जिंदा कारतूस मिली। यह देख उन्होंने इसकी सूचना पुलिस को दी। थोड़ी देर में वहां एसीपी एनआईटी रमेश पाल सहित एसएचओ एसजीएम नगर पहुंच गए।

जोरावर को प्राथमिक उपचार के लिए अस्पताल ले जाया गया। पुलिस ने जांच पड़ताल के बाद जोरावर के बयान कलमबंद किया और यह पता लगाने में जुट गए कि वहां गोली किसने चलाई। वहां मिली कारतूस कहां से आई। खबर लिखे जाने तक आरोपियों का सुराग नहीं लग सका था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गोदाम मैनेजर को गोली लगी