DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ठेकेदार से विशेष प्रेम रखने वाले इंजीनियर नपेंगे

पटना (हि.ब्यू.)। ठेकेदार से विशेष लगाव रखने वाले अभियंता कड़े दंड के लिए तैयार रहें। ठेकेदारों और अभियंताओं की मिली भगत की वजह से विभाग के अधिकांश निर्माण कार्य प्रभावित होते हैं। इस तरह की लापरवाही किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

भवन निर्माण विभाग मंत्री दामोदर रावत ने ये आदेश उत्तर बिहार की विभागीय समीक्षा बैठक में दिए। उन्होंने कहा कि ऐसी लापरवाही करने वाले अभियंताओं की विभाग में कोई जगह नहीं है। उन्हें वापस कर दिया जाएगा और उन पर सख्त कार्रवाई भी होगी। उन्होंने अभियंताओं को आदेश दिया कि लापरवाही करने वाले तमाम ठेकेदारों को चिन्हित कर उन्हें ब्लैक लिस्टेड करें।

अभियंताओं को हिदायत दी कि ठेकेदारों से मिलीभगत कर कार्यो में लापरवाही करने की आदत से बाज आएं। निर्माण-कार्य की प्राथमिकता लिस्ट तैयार करें और तमाम औपचारिकता पूरी कर सप्ताह भर में निधि प्राप्त कर लें। अब मार्च में फंड नहीं मिलेगा और मार्च में काम पूरा करने की आदत से सभी अभियंता तथा कर्मचारी बाज आएं।

सारे काम हर हाल में निर्धारित समय सीमा में पूरे होने चाहिए। बैठक में कुल 158 स्कीम की समीक्षा हुई। छपरा, सीवान, अररिया, बेतिया, सुपौल और वैशाली जिलों में अधिकांश निर्माण कार्य अधूरे पड़े हैं। छपरा के कार्यपालक अभियंता सात साल से वहीं जमे हुए हैं। इस पर भी मंत्री ने आपत्ति उठाई। छपरा में जेपीवीवी प्रौद्योगिक संस्थान को फरवरी 2011 में ही तैयार होना था, जो अभी तक नहीं हुआ है। इसे 30 जून तक तैयार करने का निर्देश दिया गया।

सीवान जिले में 39 करोड़ 18 लाख की योजनाएं लंबित हैं, इनके निर्माण में तेजी लाने को कहा गया। दरभंगा में आंगनबाड़ी केन्द्र के निर्माण में ढिलाई बरते की बात सामने आई। डीएमसीएच में छात्रावास, राजकीय पॉलीटेकनिक और पिछड़ी जाति के छात्रावास के निर्माण को भी जल्द पूरा कराने को कहा गया। मंत्री ने अभियंताओं से कहा कि भवन ऐसे हों कि इनमें बदलते जमाने की आधुनिकता दिखे। उन्होंने आधुनिक आर्किटेक्चर अपनाने की सलाह भी दी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ठेकेदार से विशेष प्रेम रखने वाले इंजीनियर नपेंगे