DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नक्सल क्षेत्र में कड़ी सुरक्षा के बीच होंगे मतदान

पटना(हि.ब्यू.)। नक्सल क्षेत्रों में मतदान के लिए युद्ध जैसी तैयारी है। सुरक्षा बलों को विशेष तैयारी के साथ इन क्षेत्रों में तैनात किया जा रहा है। दरअसल राज्य निर्वाचन आयोग ने नक्सली हमले के खतरों की आशंका को देखते हुए कुछ चुनिंदा प्रखण्डों में दसवें चरण की समाप्ति के बाद अतिरिक्त चरणों में मतदान कराने का निर्णय लिया है।

इसमें जमुई, गया, रोहतास, औरंगाबाद, पूर्वी चंपारण, बांका और सहरसा जिले के कुछ प्रखण्डों की चुनिंदा पंचायतों में अलग-अलग तिथियों को वोटिंग कराई जाएगी। राज्य पुलिस ने इन इलाकों में मतदान के लिए खास तैयारी शुरू कर दी है। खासबात यह होगी कि इन क्षेत्रों में तैनात किए जाने वाले सभी जवान बुलेट प्रूफ जैकेट से लैस होंगे।

उन्हें अत्याधुनिक हथियारों के साथ बुलेट प्रूफ जिप्सी भी मिलेगी। कोशिश यही है कि मतदान के दौरान अगर नक्सली हमला होता है तो जवान पूरी मुस्तैदी से और डटकर उनका मुकाबला कर सकें। नक्सल इलाकों में लैंडलाइन विस्फोट का खतरा सर्वाधिक होता है। इसको ध्यान में रखकर अलग से तैयारी की जा रही है। खतरों से निपटने के लिए एंटी लैंड माइन गाड़ियों की तैनाती की जा रही है ताकि जवानों के मूवमेंट में समस्या न हो।

पुलिस मुख्यालय के अनुसार अतिरिक्त चरणों के मतदान के मद्देनजर रोहतास, गया और औरंगाबाद में बीएमपी के दो-दो कमांडेंट (एसपी स्तर के) को तैनात किया गया है। इनके साथ बीएमपी का एक-एक प्लाटून भी होगा। इसके अतिरिक्त तीनों जिलों में सीआरपीएफ की दो और बीएमपी की तीन-तीन अतिरिक्त कंपनियां तैनात की जा रही हैं। विशेष अभियान के लिए एसटीएफ की यूनिट भी होगी। इन इलाकों में वोटिंग का समय सुबह 7 बजे से अपराह्न 3 बजे तक होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नक्सल क्षेत्र में कड़ी सुरक्षा के बीच होंगे मतदान