DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आत्मविश्वास के साथ जीवन में प्रवेश करें छात्र : राज्यपाल

दरभंगा निज प्रतिनिधि। डिग्री प्राप्त करने के बाद अब छात्रों को आत्मविश्वास, दृढ़इच्छाशक्ति व दूरदृष्टि के साथ वास्तविक जीवन में प्रवेश करने की जरूरत है। सफलता अवश्य मिलेगी।’ ल.ना. मिथिला विश्वविद्यालय परिसर स्थित बहुद्देशीय भवन में सोमवार को आयोजित तीसरे दीक्षांत समारोह में छात्रों को डिग्री प्रदान करते हुए कुलाधिपति देवानंद कुंवर ने ये बातें कहीं।

समारोह में 208 छात्रों को पीजी डिग्री सहित एक को डी लिट तथा 33 लोगों को पी-एचडी की उपाधि दी गयी। विभिन्न विषयों में सर्वाधिक अंक प्राप्त करने वाले 15 में से 7 छात्रों को गोल्ड मेडल मौके पर दिए गए जबकि शेष को देने की अनुमति दी गयी। कुलाधिपति ने कहा कि मिथिला आदि काल से विद्या और संस्कृति का केंद्र रहा है। डिग्री पाने वाले छात्रों के जीवन में इसकी झलक दिखनी चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रत्येक वर्ष दीक्षांत समारोह होना चाहिए और अगर दिक्कत हो तो दो वर्षो में एक बार तो होना ही है।

मुख्य अतिथि गांधी संग्रहालय (पटना) के गांधीवादी चिंतक रजी अहमद ने छात्रों को अपनी ऐतिहासिक उपलब्धियों को कभी नजरअंदाज नहीं करने की नसीहत दी और कहा कि इससे रोशनी लेते हुए अपनी कमियों का आकलन कर जीवन में सफलता के लिए रणनीति बनावें। हमारा अतीत शानदार रहा है और हमें प्रयास करना चाहिए कि हमारा भविष्य भी उज्ज्वल हो ताकि आने वाली पीढ़ी के लिए आप पथ प्रदर्शक बन सकें।

उन्होंने इतिहास का जिक्र करते हुए कहा कि यहां सम्राट अशोक, चंद्रगुप्त, समुद्रगुप्त जैसे प्रतापी शासक हुए हैं। अहमद ने 1934 में प्रलयंकारी भूकंप के समय गांधीजी की दरभंगा यात्रा का जिक्र किया और छात्रों को उनसे प्रेरणा लेने की सलाह दी। आरंभ में कुलपति डा. समरेंद्र प्रताप सिंह ने अतिथियों का स्वागत करते हुए विश्वविद्यालय में अपनी उपलब्धियों का प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। कार्यक्रम का संचालन कुलसचिव डॉ. विमल कुमार ने किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आत्मविश्वास के साथ जीवन में प्रवेश करें छात्र : राज्यपाल