DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पहले परिवार उजाड़ा, अब आशियाना

जमशेदपुर संवाददाता। बागबेड़ा के गांधीनगर निवासी कृष्णा पंडित का झोपड़ीनुमा घर गुरुवार तड़के कुछ लोगों ने जलाकर राख कर दिया। जब तक बस्ती के लोगों को कुछ पता चलता घर पूरी तरह जल चुका था। जानकारी मिलने पर कृष्णा पंडित परिवार के साथ दौड़ते-भागते पहुंचे और आग बुझाने का प्रयास किया लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी।

मौके पर बागबेड़ा थाना प्रभारी पहुंचे और पूछताछ के बाद चले गये। क्यों जलाया मकान? कृष्णा पंडित ने बताया कि पिछले वर्ष उनकी 6 और 7 वर्ष की दो बेटियों के साथ चार लोगों ने दुष्कर्म किया था। पुलिस ने चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। उन्होंने बताया कि जब भी वे कोर्ट में तारीख पर जाते हैं, आरोपी उनसे समझौते के लिए कहते हैं।

बात नहीं मानने पर परिणाम भुगतने की धमकी दी जाती है। उन्होंने कहा कि आरोपियों की बात उन्होंने नहीं मानी। इसी कारण उनकी झोपड़ी में आग लगवा दी गई। डर के मारे सोते हैं किराये के मकान में कृष्णा ने बताया कि दुष्कर्म की दो-दो घटनाओं के बाद उनका परिवार टूट चुका था।

आरोपियों की दहशत के कारण उन्होंने बस्ती में ही किराये का एक मकान लिया था, जहां रात में वे परिवार के साथ सोते थे और सुबह अपने झोपड़ीनुमा मकान में आकर रहते थे। धमकी के बाद कृष्णा पंडित की झोपड़ी जला दी गई।

घटना के बाद कृष्णा की पत्नी रेनू देवी समेत पूरा परिवार दहशत में है। गुरुवार को रेनू धमकी याद कर बेहोश हो जा रही थीं। बस्ती के लोग चेहरे पर पानी डालकर उन्हें होश में ला रहे थे।

क्या-क्या जलाः कृष्णा के अनुसार आग से घर में रखी साइकिल, कपड़े, अनाज, रुपये समेत समेत पूरा सामान जलकर राख हो गया। झोपड़ी जलने से करीब 30 हजार का नुकसान हुआ है।

चार के खिलाफ मामला दर्जः कृष्णा पंडित के बयान पर बागबेड़ा पुलिस ने बिट्टू, संतोष, दीपू और ब्रजेश के खिलाफ साजिश रचकर मकान जलाने की प्राथमिकी दर्ज की है। बागबेड़ा थाना प्रभारी एसके चौधरी ने बताया कि पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पहले परिवार उजाड़ा, अब आशियाना