DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरकारी अस्पताल में आईसीयू की सुविधाएं मिलने लगीं

संवाददाता गुड़गांव। अब जिला अस्पताल में आने वाले गंभीर मरीजों को इलाज के लिए दिल्ली के अस्पतालों पर निर्भर नहीं होना पड़ेगा। न ही डॉक्टर उन्हें हमेशा की तरह हर बार दिल्ली रेफर करेंगे। क्योंकि अब इस तरह के गंभीर मरीजों को साइबर सिटी के सरकारी अस्पताल में ही बेहतर इलाज मिल सकेगा।

दरअसल अस्पताल में बने नवनिर्मित छह बिस्तरों के इंटेसिव केयर यूनिट (आईसीयू) वार्ड की सुविधाएं गंभीर मरीजों को मिलने लगी हैं। गंभीर मरीजों के लिए यह राहत भरी खबर है। जिले के सरकारी अस्पताल में आईसीयू यूनिट को शुरू कर दिया गया है। वार्ड में तीन वेंटिलेटर, छह मॉनीटर, इंफ्यूजन पंप सहित अन्य आवश्यक उपकरणों को फिट कर दिया गया है। इस समय वार्ड में दो गंभीर मरीज दाखिल भी हैं।

अस्पताल में पहली मंजिल पर आईसीयू वार्ड बनाया गया है। उल्लेखनीय है कि इससे पहले अस्पताल में आईसीयू वार्ड के अभाव में अक्सर गंभीर मरीजों को दिल्ली रेफर कर दिया जाता था। नतीजतन, इलाज में देरी के कारण मरीजों की जान का जोखिम बना रहता था, लेकिन अब मरीजों को तुरंत इलाज मिलने के कारण उनकी जान को खतरा नहीं होगा।

वार्ड में ये डॉक्टर देंगें अपनी सेवाएं: आईसीयू वार्ड का इंचार्ज अस्पताल के डॉ. गुलशन अरोड़ा को बनाया गया है। उनके साथ डॉ. प्रदीप, डॉ. राकेश, डॉ. कमलदीप, डॉ. घोष और डॉ. संजीव आईसीयू वार्ड में भर्ती मरीजों को अपनी सेवाएं देंगें। इसके अलावा पांच स्टाफ नर्स को भी इस यूनिट में तैनात किया गया है।

डॉ. खजान सिंह (प्रधान चिकित्सा अधिकारी, सरकारी अस्पताल)- आईसीयू वार्ड में गंभीर मरीजों को दाखिल करना शुरू कर दिया गया है। इसके सफल संचालन के लिए पांच डॉक्टर और पांच स्टॉफ नर्स को तैनात किया गया है। धीरे-धीरे वार्ड में उपकरणों और सुविधाओं का और विस्तार किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सरकारी अस्पताल में आईसीयू की सुविधाएं मिलने लगीं