DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई न करे भारत- उदय भास्कर

हर बात से इनकार करना पाकिस्तान की रणनीति का हिस्सा है। बात कारगिल की हो या मुंबई पर आतंकी हमले की, पाकिस्तान ने शुरुआत में हमेशा इनकार की रणनीति अपनाई है। पर ओसामा की मौत के बाद पाक के साथ अमेरिका के रिश्तों में कुछ तनाव जरुर आ सकता है। इस सबके बावजूद पाक को आतंकी देश घोषित करना भारत के हक में नहीं है। इस विषय पर रक्षा विशेषज्ञ सी उदय भास्कर से हमारे विशेष संवाददाता सुहेल हामिद की बातचीत के प्रमुख अंश-

पाकिस्तान लगातार इनकार करता रहा कि ओसामा नहीं है। पर वह एबटाबाद में मारा गया। इसके क्या मायने हैं?

देखिए, इनकार पाकिस्तान की सोची-समझी रणनीति का हिस्सा है। पाक हमेशा पहले इनकार करता है। उसकी कोशिश हमेशा पल्ला झाड़ने की होती है। यह सिर्फ ओसामा के मामले में नहीं है। उसने कारगिल और मुंबई पर हुए आतंकी हमले में भी यही रणनीति अपनाई थी।

क्या पाकिस्तान को ‘आतंकी देश’ घोषित कर देना चाहिए?
मैं इसे सही नहीं मानता। क्योंकि, पाकिस्तान सरकार का आतंकियों को समर्थन किसी से छुपा नहीं है। इसलिए, वह इस धमकी के दबाव में नहीं आएगा और प्रतिक्रिया करेगा। लिहाजा, ऐसा करके हम अपने विकल्प और कम कर लेंगे।

ओसामा की मौत आतंक के खिलाफ पाकिस्तान का सहयोग है या विश्वासघात?
पाकिस्तान हमेशा दोहरी नीति अपनाता रहा है। मैं समझता हूं कि ऐसा नहीं हो सकता कि एबटाबाद में लादेन अपने परिवार के साथ रह रहा हो और पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई या सरकार को पता न हो।

इससे अमेरिका और पाकिस्तान के रिश्तों पर कुछ असर पड़ सकता है?
देखिए दोनों देशों के रिश्तों में तनाव जरूर बढ़ेगा। अमेरिका पाकिस्तान पर दबाव बढ़ा सकता है। मैं समझता हूं कि अमेरिका पाकिस्तान के प्रति अपनी नीतियों की भी समीक्षा करेगा। पर हमें नहीं भूलना चाहिए कि अफगानिस्तान में अमेरिका के सैनिक मौजूद हैं। हो सकता है कि अफगानिस्तान के अंदरूनी  हालात कुछ सुधर जाए, पर पाकिस्तान के पिछले रिकार्ड को देखते हुए इसकी उम्मीद कम है। अफगानिस्तान में अमेरिकी फौज सप्लाई और दूसरी जरूरी चीजों के लिए पाक पर निर्भर है। इसके अलावा आतंक के खिलाफ लड़ाई अभी खत्म नहीं हुई है।

मुंबई हमले में शामिल कई आतंकी पाकिस्तान में हैं। क्या भारत को भी ऐसी कार्रवाई करनी चाहिए?
जो लोग यह बात कह रहे हैं, शायद वह समझते हैं कि अमेरिका की तरह हम उसके इलाके में घुस कर आतंकियों को मार आएंगे और पाकिस्तान कोई प्रतिक्रिया नहीं करेगा। हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि पाकिस्तान के पास परमाणु हथियार हैं। ऐसा कहने वाले लोग शायद समझते हैं कि वह पाकिस्तान को पूरी तरह खत्म कर देंगे और पाक हाथ पर हाथ धरे बैठा रहेगा। हां, हम दिल्ली या अमृतसर को दांव पर लगाने के लिए तैयार हों तो इस तरह की कार्रवाई की जा सकती है।

इन स्थितियों में भारत को क्या रणनीति अपनानी चाहिए?
हमें एक बार फिर इस बात को अंतरराष्ट्रीय मंचों पर उठाना चाहिए कि मुंबई पर हुए आतंकी हमले में सिर्फ भारतीय नहीं बल्कि कई विदेशी नागरिक भी मारे गए थे। हमें पाकिस्तान पर लगातार अंतरराष्ट्रीय दबाव बनाए रखना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई न करे भारत- उदय भास्कर